Breaking News

जीतन राम मांझी के बयान से नाराज ब्राह्मण समाज ने सवर्ण आयोग के दफ्तर में दिया धरना ,मांझी पर कार्रवाई की मांग….

जीतन राम मांझी के बयान से नाराज ब्राह्मण समाज ने सवर्ण आयोग के दफ्तर में दिया धरना ,मांझी पर कार्रवाई की मांग..

पटना 21 दिसंबर :- पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के ब्राह्मणों पर दिए गए अपमानजनक बयान को लेकर परशुराम सेवा संस्थान,राष्ट्रीय ब्राह्मण महासभा के तत्वावधान में ऊँची जातियों के विकास के लिए आयोग के समक्ष धरना प्रदर्शन एवं जीतन राम मांझी के विरुद्ध जमकर नारेबाजी किया गया गया|
परशुराम सेवा संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष व राष्ट्रीय ब्राह्मण महासभा के प्रदेश अध्यक्ष ईo आशुतोष कुमार झा ने कहा की जीतन राम माँझी द्वारा ब्राह्मणो पंडितो, भगवान राम व सत्यनारायण भगवान और खुद अपने समाज को अपशब्द आपत्तिजनक टिप्पणी करने से आहत समाज आज सवर्ण आयोग पहुँचा और अध्यक्ष को ज्ञापन देना चाहा लेकिन वहाँ बताया गया कि कोई अध्यक्ष की नियुक्ति 4 वर्षों से ज्यादा समय से नही हुई है तो संगठन के पदाधिकारियों का गुस्सा आपे से बाहर हो गया|
वहीँ ब्राह्मण महासभा संगठन के लोग धरना प्रदर्शन एवं नारेबाजी करने लगे, आशुतोष झा ने कहा कि एनडीए गठबंधन की सरकार मे सवर्णों के साथ दोयम दर्जे का व्यवहार किया जा रहा है।। सरकार से माँग की जल्द से जल्द आयोग व बोर्ड में अध्यक्ष को मनोनीत किया जाये।।
वही प्रदेश प्रवक्ता रजनीश कुमार तिवारी ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री को किसी जाति धर्म विशेष के प्रति इस प्रकार का अशोभनीय शब्द शोभा नहीं देता है उन्होंने अपने समाज के लोगों को एक जाति धर्म के प्रति उकसाने का काम किया है कम्युनल वायलेंस एवं संविधान के आर्टिकल 19 के रिस्ट्रिक्शन आर्टिकल 25 के विरुद्ध कार्य किया है, हमने उनके इस आपत्तिजनक बयान गाली को लेकर कोतवाली थाने में एफ आई आर दिया था जिस पर प्रशासन के द्वारा उपर्युक्त धारा को दर्ज करते हुए करवाई किया जाए वरना यह आग ठंडी नहीं होगी और बढ़ती जाएगी क्योंकि ब्राह्मण समाज में इसको लेकर काफी आक्रोश है| और माँझी ब्राह्मण समाज से सीधे -सीधे संपर्क कर माफी मांगें, ब्राह्मण समाज सदैव देश और राज्य हितसाधक बना रहा है और सर्व समाज विकास के लिए कार्य करता रहा है,यदि सीधे- सीधे माफी नही मांगेगे तो समाज गंभीरता पूर्वक उनके गठबंधन को वोट नही करने पर विचार करेंगे, एनडीए गठबंधन से उनको हटाया जाये।।
वही धरना के बाद प्रदेश अध्यक्ष ईo झा, महिला मोर्चा अध्यक्ष सुधा ओझा, दक्षिण बिहार कार्यकारी अध्यक्ष मनीष मिश्र उत्तर बिहार ललित झा, प्रदेश प्रवक्ता रजनीश कुमार तिवारी, प्रदेश महासचिव ब्रज मोहन झा,पूर्व प्रधान महासचिव मनीष भूषण ओझा ने संयुक्त रूप से आयोग के प्रशाखा पदाधिकारी शैलेंद्र झा को सचिव के नाम से जीतन राम माँझी पर कारवाई के लिए आवेदन दिया। जिसे आयोग ने स्वीकार करते हुए रिसीविंग दी|
धरना प्रदर्शन में युवा उपाध्यक्ष प्रशांत मिश्रा, शशि शेखर झा, ईo आलोक झा,वैशाली प्रभारी अभिनन्दन पांडेय, राजेश पांडेय, अजित झा कन्हैया, वरीय भाजपा नेता नवनीत दुबे, विंध्याचल पाठक,जदयू नेता सौरभ मिश्रा राकेश दत्त मिश्रा,गुंजन तिवारी, प्रदेश सचिव अभिषेक मिश्रा, मुन्ना पांडेय, एंकर राजीव झा, पवन मिश्रा, ईo सुशील त्रिपाठी, सौरभ झा, राम विनय पाठक, रवि त्रिपाठी सहित कई पदाधिकारी उपस्थित थे।।
सभी ने माफी नही माँगने पर कारवाई नही होने से आगे सभी स्वाभाविक स्वाभिमान की रक्षा करने वाले लोगों के साथ मिलकर आगे की रणनीति तैयार किया जायेगा।।
0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.