मण्डलायुक्त व डीआईजी अचानक पहुंचे आजमगढ़ जिले की तहसील सदर……

मण्डलायुक्त व डीआईजी अचानक पहुंचे तहसील सदरसम्पूर्ण समाधान दिवस का किया निरीक्षणआमजन से सुनीं उनकी समस्यायें

गलत पैमाइश से सम्बन्धित शिकायतों को गंभीरता से लेंजॉंच करायेंशिकायत सही मिलने पर सम्बन्धित के विरुद्ध कार्यवाही करें: मण्डलायुक्त

      आज़मगढ़ 2 जुलाई — मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त तथा डीआईजी अखिलेश कुमार ने शनिवार को तहसील सदर में सम्पूर्ण समाधान दिवस का औचक निरीक्षण किया। इस अवसर पर अधिकारीद्वय ने उपस्थित आमजन से उनकी समस्याओं को गंभीरतापूर्वक सुना तथा सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को समबद्ध रूप से निस्तारित किये जाने हेतु निर्देशित किया। सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर राजस्व के 122पुलिस के 24 एवं अन्य विभागों के 17 कुल 163 शिकायती प्रार्थना-पत्र प्राप्त हुए जिसमें से मौके पर 17 मामलों निस्तारण किया गयानिस्तारित सभी प्रकरण राजस्व विभाग से सम्बन्धित थे। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित किया कि जन समस्याओं का निस्तारण गुणवत्तायुक्त होना चाहिए ताकि शिकायतकर्ताओं को एक ही शिकायत के सम्बन्ध में बार-बार भाग दौड़ न करनी पड़े। सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर कुल 12 अधिकारियों को अनुपस्थित पाये जाने पर असन्तोष व्यक्त करते हुए मण्डलायुक्त ने उनका एक दिन का वेतन रोके जाने तथा स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया। अनुपस्थित अधिकारियों में उपमुख्य चिकित्सा अधिकारीसहायक बेसिक शिक्षा अधिकारीबीडीओ पल्हनी व रानी सरायएसओ तहबरपुरसहायक विकास अधिकारी (पंचायत)सहायक वन संरक्षक तथा चकबन्दी अधिकारी सदरफूलपुरजहानागंजसठियॉंव एवं सगड़ी सम्मिलित हैं।

      मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त के समक्ष ग्राम पटखौली निवासी लगभग 80 वर्षीय प्रभावती देवी नामक एक वृद्ध महिला ने प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करते हुए अवगत कराया कि उनके ससुर द्वारा 560 कड़ी जमीन सरस्वती शिक्षा परिषद पटखौली को दान में दी गयी थी। लगभग 300 कड़ी बची जमीन को कोरोनाकाल में बिना किसी आदेश के लेखपाल द्वारा पैमाइश कर उसपर अतिक्रमण करा दिया गया। उक्त वृद्ध महिला द्वारा यह भी कहा कि इस सम्बन्ध में एसडीएमजन सुनवाई पोर्टल एवं अन्य स्तरों पर शिकायत की गयीपरन्तु लेखपाल द्वारा आख्या में उलटफेर कर दिया जाता है। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने इस सम्बन्ध में उपजिलाधिकारी को निर्देशित किया कि राजस्व एवं पुलिस विभाग की संयुक्त टीम भेजकर पुनः पैमाइश करायें तथा शिकायती प्रार्थना पत्र में उल्लिखित तथ्यों की जॉंच करायेंयदि शिकायत पाई जाती है तो दोषी के विरुद्ध कार्यवाही सुनिश्चित करें। इसके साथ ही उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जन सुनवाई के दौरान प्रायः इस प्रकार की शिकायतें प्राप्त होती रहती हैंइसलिए गलत पैमाइश से सम्बन्धित शिकायतों को पूरी गंभीरता से लिया जायेउसकी सम्यक जॉंच कराई जाय तथा अनियमितता पाये जाने पर सम्बन्धित का उत्तरदायित्व निर्धारित उनके विरुद्ध कार्यवाही की जाय। इसके आलवा मण्डलायुक्त ने गत सम्पूर्ण समाधान दिवस में प्राप्त प्रार्थना पत्रों के निस्तारण एवं आईजीआरएस पोर्टल पर लम्बित एवं निस्तारित संदर्भों का विवरण उपलब्ध कराये जाने हेतु निर्देशित किया। डीआईजी अखिलेश कुमार ने पुलिस सम्बन्धित मामलों की सुनवाई की तथा सम्बन्धित थाना प्रभारियों को शिकायतों का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर किये जाने का निर्देश दिया।

      इस अवसर पर उपजिलाधिकारी जेआर चौधरीपुलिस क्षेत्राधिकारी नगर सिद्धार्थ तोमरतहसीलदार सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

0Shares
Previous post आजमगढ़ में लगातार बसपा का बढ़ रहा है जनाधार- डा0 बलिराम
Next post 100वें अंतर्राष्ट्रीय सहकारिता दिवस होने वाले समारोहों में मुख्य अतिथि होंगे अमित शाह …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Our Visitor

0 1 4 0 6 7
Users Today : 80
Users Yesterday : 61
Users Last 7 days : 210
Users Last 30 days : 679
Users This Month : 421
Total Users : 14067
Views Today : 92
Views Yesterday : 95
Views Last 7 days : 299
Views This Month : 596