होली पर्व की धूम में सभी सराबोर होने को दिखे उत्साहित

पिचकारी की दुकान पर खरीददारी करते लोग
फतेहपुर। रंग व उल्लास का पर्व होली आये और रंगों की बौछार न हो ऐसा भला हो सकता है? हमेशा से फाल्गुन के इस मस्ती भरे त्योहार की मस्ती में चार चांद लगाने का काम करती आ रही हैं पिचकारियां। बिना पिचकारियों के न तो होली खेलने का मजा आता है और न ही रंगों से भीगने का जब तक घर में किलकारियां कर रहे मासूमों के हांथ में पिचकारियां न हो तब तक उस घर की होली पूरी तरह दिखाई नही देती। नन्हे-मुन्ने बच्चे हमेशा से इन पिचकारियों के मुरीद रहे हैं।
होली की उनकी सारी मस्ती और धूम इन्ही पिचकारियों के साथ संभव हो पाती है। बाजार में बिकने वाली यह आकर्षक पिचकारियां हालांकि महंगाई की मार के चलते आम आदमी के लिए खरीद पाना कठिन जरूर हो गया है, परन्तु उसके बावजूद नन्हे-मुन्ने की खुली मुस्कान के आगे हर मंहगाई बौनी दिखती है। किसी समय बाजार में बिकने वाली प्रेसर पिचकारियां और पम्प ही लोगों के लिए होली खेलने का प्रमुख साधन होते थे, परन्तु धीरे-धीरे भारी वजन वाले इन पम्पों और प्रेसर पिचकारियों के चलन में कमी आती रही। इसका प्रमुख कारण यह भी रहा कि पिचकारियों के सबसे बड़े शौकीन मासूम बच्चे इन भारी प्रेसर पिचकारियों और पम्पों को उठा नही पाते, इसके चलते यह बड़ी पिचकारियां सिर्फ युवाओं तक सीमित होकर रह गयी थीं। इसी बीच बाजार में बच्चों के लिए बोतल नुमा पिचकारियां आना आरम्भ हुयीं। जिन्हे बच्चों ने हांथों-हांथ लिया। यह रंग बिरंगी पिचकारियां बच्चों को बहुत भाती थीं। समय के साथ-साथ इन पिचकारियों का स्वरूप और बदला तथा आज बाजार में तरह-तरह की आकर्षक पिचकारियां लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर रही हैं। जिनमें चाइना की पिचकारियों ने अपनी खास जगह बाजार में बना ली है। तरह-तरह के आकर्षक स्टीकरों से सजीं पम्प पिचकारियां, बंदूक, खिलौने वाली पिचकारियां बच्चो को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। चूंकि आज होलिका दहन है इसलिए रंग व पिचकारियों से सजी दुकानों में लोगो की खासी भीड़ उमड़ पड़ी। चौक बाजार, हरिहरगंज, शादीपुर, जोनिहा बस स्टाप, पत्थरकटा चौराहा सहित शहर की अन्य बाजारों में रंग-बिरंगी पिचकारियां सजी रही। जिनमें खरीदारो की खासी भीड़ देखी गयी। इसी प्रकार खागा, बिंदकी सहित जिले के अन्य कस्बो एवं ग्रामीणांचलों की बाजारों में भी होली की तैयारियों को लेकर लोगो ने खूब खरीदारी की।

0Shares
Total Page Visits: 358 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *