हाईटेंशन तारों से गैस गोदाम में आग लग जाती तो हो जाता बड़ा हादसा

हाईटेंशन तारों से गैस गोदाम में आग लग जाती तो हो जाता बड़ा हादसा
– हाईटेंशन लाइन के तार टूटने से तीन मवेशियों की मौत का मामला
– लोगों में नाराजगी का माहौल हाईटेंशन लाइन हटाने की मांग
बिंदकी-फतेहपुर। हाईटेंशन लाइन तार टूटने से तीन मवेशियों की तड़प तड़प कर मौत होने की घटना और बड़ी हो जाती यदि ठीक बगल में गैस गोदाम में आग लग जाती। ऐसी स्थिति में आग के हादसे को संभालना मुश्किल हो जाता और भारी जन धन हो सकती थी। घटना के बाद से नाराज ग्रामीणों ने हाईटेंशन लाइन तार हटाने की मांग की है।
मालूम हो कि कोतवाली क्षेत्र के कुंदनपुर गांव में अचानक हाईटेंशन लाइन तार टूटने से बड़ा हादसा हो गया था। जिसमें तीन मवेशी तड़प तड़प कर मर गए थे। हादसा इतना भयानक था कि खूंटे में बंधी दो भैंस और एक गाय भाग भी नहीं सकी क्योंकि कोई ग्रामीण पास में जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था। करीब आधे घंटे से अधिक तेज आवाज में तथा लपटों के बीच धू-धू कर मवेशी जलकर मौत का शिकार हो गए थे। इस घटना से नाराज ग्रामीणों ने कुंदनपुर गांव में कुंवरपुर मार्ग पर जाम लगा दिया था। जाम लगने के थोड़ी देर बाद पुलिस मौके पर पहुंची थी और काफी प्रयास के बाद जाम को खुलवा दिया था। जिस जगह हाईटेंशन लाइन के साथ जलकर टूट रहे थे धू-धूकर तड़पकर मवेशी मर रहे थे ठीक उसी के बगल में इंडेन गैस की गोदाम है। जिसमें सैकड़ों की संख्या में गैस सिलेंडर रखे हुए थे। ऐसी स्थिति में यदि आग की चिंगारी गैस गोदाम में पहुंच जाती तो निश्चित रूप से हादसा और भयावह हो जाता। जिसको नियंत्रण करना असंभव ही नहीं नामुमकिन दिखाई देने लगता। इस हादसे में भारी जन और धन की हानि हो सकती थी लेकिन खुशकिस्मती रही कि आग की कोई चिंगारी गैस गोदाम में नहीं पहुंची। नाराज ग्रामीणों ने हाईटेंशन लाइन हटाने की मांग की है और कहा है कि यदि हाईटेंशन लाइन नहीं हटाई गई तो इसकी शिकायत शासन स्तर पर की जाएगी क्योंकि इस हाईटेंशन लाइन के कारण हमेशा दुर्घटनाएं होती रहती हैं। कई माह पहले दरवेशाबाद में इसी हाईटेंशन लाइन टूट जाने से एक युवक की मौत हो गई थी और कई मवेशी मौत का शिकार हो गए थे। ग्रामीणों ने कहा कि इसकी शिकायत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कर हर हाल में हाईटेंशन लाइन हटाने की मांग की जाएगी। भारतीय किसान यूनियन के तहसील अध्यक्ष रामसहाय पटेल ने कहा कि हाईटेंशन लाइन दूसरी जगह से ले जाए जाए वरना बड़ा हादसा होगा। इसकी जिम्मेदारी कोल्ड स्टोर मालिक और शासन प्रशासन की होगी। भारतीय किसान यूनियन इस मुद्दे को लेकर आर-पार की लड़ाई लड़ेगा।

0Shares
Total Page Visits: 1448 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *