हजारों हैण्डपम्प खराब, पानी के लिए झगड़े..

हजारों हैण्डपम्प खराब, पानी के लिए झगड़े
– विभागीय अभिलेखों में दुरूस्त पर ज्यादातर की हालत रिबोर कराने लायक

फतेहपुर। प्रचंड गर्मी में जलस्तर नीचे खिसक रहा है। अधिकतर गांवों के हैण्डपंप पानी देना बंद कर दिया हैं। ज्यादातर रिबोर की स्थित में हैं। ओवरहैंड टैंक के नलकूपों की हालत कमोवेश इसी तरह है। सबसे अधिक किल्लत यमुना कटरी के ब्लाकों में हैं। यहां पानी की समस्या से आम जनमानस बेहाल है। हालत यह है कि गांव के लोग बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं। पानी के लिए झगड़े की नौबत है। बावजूद इसके जल निगम विभाग समेत जिम्मेदार विभागों के अधिकारी गंभीर समस्या पर ध्यान नही दे रहे हैं।
बेतहासा गर्मी और सूखते गला के कारण लोगों के जान पर बन आई है। घरों में लगे हैण्डपंप करीब एक महीने पहले ही पानी उगलना बंद कर दिया था। सरकारी हैण्डपंपों से ग्रामीण किसी तरह प्यास बुझा रहे थे लेकिन अचानक यह हैण्डपंप भी दगा दे गए। जिले के विभिनन ग्रामसभाओं में लगे करीब पांच हजार हैण्डपंप खराब है। इनमे आधे से अधिक रिबोर की स्थित में हैं। जो हैण्डपंप मरम्मत करा कर चलाए जा सकते हैं। ग्राम प्रधान किनारा कस रहे हैं। ग्रामीणों की शिकायत पर प्रधान टाल मटोल कर मामले से कन्नी काट रहे हैं। कई ग्राम सभाओं में पानी की समस्या से जूझ रहे गामीण चंदा करके हैण्डपंप बनवाने पर मजबूर हैं। कुछ ग्राम सभाओं में ग्राम समूह पेयजल योजना से बने अवर जलाशय भी ग्रामीणों की प्यास बुझाने में अक्षम साबित हो रहे हैं। योजना के नलकूप वर्षों से खराब है, क्षतिग्रस्त पाइप लाइन के कारण टोटी तक पानी नही पहुंच पाता है।

0Shares
Total Page Visits: 7443 - Today Page Visits: 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *