सरकारी राशन वितरण कर रहे कोटेदारों पर शिकायत मिलने पर होगी बड़ी कार्यवाही

खबर आज़मगढ़ जिले से , जहाँ पर एक तरफ जिलाधिकारी एनपी सिंह हैं जो लगातार प्रयास कर रहे हैं कि आपदा की इस घड़ी में सबको ज़रुरत की खाद्य वस्तुएं मिल जाएँ ताकि लोगों को खाने पीने की दिक्कत न आये …इसके लिए उन्होंने सरकारी राशन वितरण कर रहे कोटेदारों पर शिकायतें मिलने पर कड़ी कार्यवाही भी की , ताकि जो पात्र हैं उन तक सरकार द्वारा प्रदत्त खाद्य सामग्री उन तक पहुंचती रहे , डीएम की इस कार्यवाही का खौफ कोटेदारों में देखा गया , लेकिन आज भी कुछ मनबढ़ कोटेदार अपनी हरकतों से बाज नहीं आते , ऐसा ही एक मामला सदर तहसील पर देखने को मिला जहाँ पर एक प्राइवेट स्कूल के शिक्षक को इस क़दर परेशान किया गया कि वह फूट – फूट कर रोने लगा . साथ ही उसने आरोप लगाया कि कोटेदार ने मुझे 5 – 6 महीने से राशन नहीं दिया और मुझे जिला पूर्ति अधिकारी के पास भेजा तो मैं अपने राशन कार्ड की कापी लेकर जिला पूर्ति अधिकारी के पास पहुंचा तो उन्होंने मुझे अपमानित करते हुए भगा दिया . इसके बाद मैं कोविड 19 आपदा राहत कंट्रोल रूम पहुंचा और उन्हें बताया कि मैं इस वक्त परेशान हूँ , मुझे राशन नहीं मिला है ..इस पर नोडल अधिकारी भड़क गए और उन्होंने मुझे अपमानित करते हुए भाग जाने को कहा . इतना बताने के बाद वह व्यक्ति जार – जार होकर रोने लगता है , और कहता है कि एक शिक्षक  से इस तरह का बर्ताव असहनीय है .युवक तहबरपुर का रहने वाला बताया गया है …
एक तरफ कलेक्टर आज़मगढ़  पुरे जिले में कोई भूखा न सोये , इस मुहीम में रात दिन लगे हैं तो वहीँ दूसरी तरफ कुछ गैर ज़िम्मेदार सरकारी अफसर आपदा की इस घड़ी में भी अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहे हैं ..और जनता से दुर्व्यहार कर रहे हैं ..कलेक्टर साहब ..कहीं ये गैर ज़िम्मेदार अधिकारी आपके किये कराये पर पानी न फेर दें ..

0Shares
Total Page Visits: 285 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *