शान से उठा जुलूस-ए-मोहम्मदी, नातों से गूंजा शहर

सियासी दलों सहित आशिकाने रसूल के स्टालों पर हुआ लंगर

फतेहपुर। पैगम्बर-ए-इस्लाम हजरत मोहम्मद साहब का जन्मदिन शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में बेहद अकीदत व एतराम के साथ मनाया गया। पैदाइश की रात को जहां मुशायरा व ईद मिलादुन्नबी के मौके पर जगह-जगह सजावट के साथ ही चरागा किया गया। वहीं रविवार को जुलूस-ए-मोहम्मदी का नजारा देखते ही बना। शहर के लगभग दो दर्जन मुहल्लों से अंजुमन ने जुलूस निकाला। जुलूस के दौरान मोहम्मद साहब की शान में एक से बढ़कर एक नात शरीफ पेश की गयीं। इसके अलावा पूरा शहर अल्लाहो अकबर, नारे तकबीर, नारे रिसालत या रसूलल्लाह के नारों से गूंजता रहा। जुलूस-ए-मोहम्मदी के निकलने वाले रास्तों पर सियासी दलों सहित आशिकाने रसूल ने स्टाल लगाकर जहां फूलों की बारिश की। वहीं जुलूस में शामिल लोगों को चाय व पानी पिलाकर सवाब हासिल किया। जुलूस को लेकर पुलिस के जवान चप्पे-चप्पे पर तैनात रहे। जुलूस वाले मार्गों पर यातायात को मोड़ दिया गया था। जिसके चलते किसी भी तरह की दिक्कत नहीं हुयी। उपजिलाधिकारी सदर प्रमोद झा, पुलिस उपाधीक्षक नगर केडी मिश्रा जुलूस में मुस्तैद रहे।

पैगम्बर-ए-इस्लाम की पैदाइश पर निकलने वाले जुलूसों में पढ़ने वाली नात शरीफ का रिहर्सल तो कई दिन पहले से ही शुरू हो गया था। नमाज जोहर शहर के दो दर्जन मुहल्लों से जुलूस-ए-मोहम्मदी निकाला गया। हर अंजुमन में शामिल बच्चों व बुजुर्गों की तरह-तरह की पोशाक लोगों के आकर्षण का केन्द्र रही। कोई हरी पोशाक में दिखा तो कोई कत्थई तो कोई सफेद लिबास में नजर आया। सभी अंजुमन अपने-अपने मुहल्लों से शुरू होकर चौगलिया में एक साथ हुयीं। तत्पश्चात यहीं से जुलूस मोहम्मद साहब की शान में नात शरीफ पढ़ता हुआ आगे बढ़ता रहा। जुलूस लाठी मोहाल, बाकरगंज से जीटी रोड होता हुआ मुखलाल वाली गली पहुंचा। इससे पूर्व इसी मार्ग पर सियासी दलों ने अपने स्टाल लगाकर जुलूस-ए-मोहम्मदी का इस्तकबाल किया। नगर अध्यक्ष नफीस उद्दीन, नगर पालिका परिषद अध्यक्ष नजाकत खातून के प्रतिनिधि हाजी रजा, हाजी रफी अहमद, चौधरी मंजर यार, सऊद अहमद, हाजी मकसूद अहमद एडवोकेट ने स्टाल लगाकर जुलूस-ए-मोहम्मदी में शामिल अंजुमनों का फूलों की बारिश के बीच जोरदार इस्तकबाल किया। उधर शहरकाजी सैय्यद शहीदुल इस्लाम अब्दुल्ला, काजी-ए-शहर कारी फरीद उद्दीन कादरी ने जुलूसों की कयादत की। शहरकाजी मौलाना फरीद उद्दीन कादरी ने कहा कि पैगम्बरे इस्लाम कयामत तक के मनुष्यों के लिए नबी संदेष्टा व मार्गदर्शक बनाकर भेजे गये हैं। उनकी शिक्षा विश्व शांति का मूल मंत्र है। श्री कादरी ने कहा कि हमें अपने नबी का जन्मदिन मनाकर सम्पूर्ण मानव जाति को विश्व के भाईचारा व अम्न का पैगाम देते हैं। पैगम्बरे इस्लाम का जन्मदिन अंधेरे से उजाले, जुल्म से प्रेम, हिंसा से अहिंसा, आतंकवाद पर अम्न व चैन, असमाजिकता पर समाजिकता की विजय का दिन है। जुलूस-ए-मोहम्मदी मुखलाल स्वीट हाउस की गली से सैय्यदवाड़ा, मुस्लिम इण्टर कालेज, महाजरी, पीलू तले चौराहा से होता हुआ लल्लू मियां कोठी मार्ग पर पहुंचा। यहीं से जुलूस तकिया तले के लिए बढ़ा। अंत में देर रात जुलूस चौक चौराहे पर शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो गया। जुलूस के दौरान नाते शरीफ का जोरदार सिलसिला चलता रहा। सरकार की आमद मरहबा, आ गये सरकार मेरे आ गये सरकार, मेरे आका के जैसा कोई नहीं आदि नाते शरीफ गूंजती रहीं। जुलूस शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो जाने पर जिला एवं पुलिस प्रशासन ने चैन की सांस ली। जुलूस के दौरान कोतवाली प्रभारी निरीक्षक जितेन्द्र सिंह के अलावा सभी चौकी इंचार्ज व पुलिस के जवान मुस्तैद रहे। चौराहों पर भी पुलिस ने मुस्तैद रहकर आने-जाने वाले वाहनों को दूसरे रास्तों से निकलवाया।

खागा प्रतिनिधि के अनुसार ईद मिलानुनबी पर कस्बे के नूरी मस्जिद बस स्टाप से जुलूस-ए-मोहम्मदी अकीदत के साथ उठाया गया। जो अपने निर्धारित मार्गों पक्का तालाब, गांधी पार्क, जीटी रोड से होता हुआ मानू का पुरवा पहुंचा। इसी रास्ते से जुलूस वापस आकर नूरी मस्जिद पर समाप्त हो गया। जुलूस में नारे तकबीर अल्लाहो अकबर, नारे रिसालत या रसूलल्लाह की आवाजें जहां बुलन्द हो रही थी। वहीं नाते पाक भी अंजुमनों द्वारा पेश की जा रही थीं। जुलूस में शामिल बूढ़े व बच्चों की पोषाक आकर्षण का केन्द्र रही। जुलूस के मद्देनजर पुलिस के जवान लगातार मुस्तैद रहे।

बिन्दकी प्रतिनिधि के अनुसार नगर में जुलूस-ए-मोहम्मदी की धूम रही। रबीउल अव्वल का जुलूस मौलाना रजा कादरी के घर से निकलकर खजुहा चौराहा होते हुए फाटक बाजार घियाही गली, बजाजा गली, तहसील गेट, अस्पताल रोड, ललौली चौराहा होते हुए मदरसा फैजुल उलूम में समाप्त हुआ। जगह-जगह स्टॉल लगाए गए थे। जगह-जगह जुलूस का इस्तकबाल किया गया। इस मौके पर पूर्व मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक, समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष रामेश्वर दयाल दयालू चेयरमैन मुन्नालाल सोनकर, पूर्व चेयरमैन मोहम्मद शरीफ, सफी उल्ला खान, इरफान राईन, शोएब कुरैशी, शमीम खान, अनीस डायमंड, इमरान नेता, अनीस कुरैशी आदि लोग मौजूद रहे। उधर खजुआ कस्बे में भी रबीउल अव्वल धूमधाम से मनाया गया। शाही मस्जिद से जुलूस निकलकर मुगल रोड होते हुए मोहल्ला बाद बादशाही पहुंचा। वापस होकर मोहल्ला कटरा, हनुमान गढ़ी, कमल ग्राही गुदड़ी मोहल्ला, कुंजराटी मोहल्ला, जुलहटी, अस्पताल रोड होते हुए समाप्त हुआ। साथ चल रहे बच्चे नाते गुनगुना रहे थे।

0Shares
Total Page Visits: 466 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *