विश्व रक्तदान दिवस: रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं-डीएम

विश्व रक्तदान दिवस: रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं-डीएम
– सदर अस्पताल में रक्तदान शिविर का डीएम ने किया उद्घाटन
– कई अन्य अस्पतालों में भी लगे शिविर

फतेहपुर। विश्व रक्तदान दिवस समूचे जनपद में मनाया गया। जिला चिकित्सालय समेत शहर क्षेत्र के कई अस्पतालों में शिविरों का आयोजन किया गया। सदर अस्पताल में जिलाधिकारी संजीव सिंह ने फीता काटकर शिविर का जहां शुभारम्भ किया। वहीं बड़ी संख्या में महादानियों ने अपने-अपने रक्त को दान किया। जिलाधिकारी ने कहा कि रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं होता। यह किसी का जीवन बचाता है। इसलिए इस पुण्य काम में सभी को बढ़-चढ़कर हिस्सेदारी निभानी चाहिए। उधर शहर के शान्तीनगर मुहल्ला स्थित आभा नर्सिंग होम में भी विश्व रक्तदान दिवस के अवसर पर शिविर लगाया गया। जिसमें पच्चीस लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया।
शुक्रवार को विश्व रक्तदान दिवस के अवसर पर सदर अस्पताल में शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में जिलाधिकारी संजीव सिंह व विशिष्ट अतिथि मुख्य विकास अधिकारी चांदनी सिंह ने शिरकत की। डीएम ने शिविर का फीता काटकर उद्घाटन किया। तत्पश्चात उन्होने उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि रक्तदान जीवनदान है। हमारे द्वारा किया गया रक्तदान कई जिन्दगियों को बचाता है। इस बात का एहसास हमें तब होता है जब हमारा कोई अपना खून के लिए जिन्दगी और मौत के बीच जूझता है। उस वक्त हम नींद से जागते हैं और उसे बचाने के लिए खून के इंतजाम की जद्दोजहद करते हैं। अनायास दुर्घटना या बीमारी का शिकार हममे से कोई भी हो सकता है। आज हम सभी शिक्षित व सभ्य समाज के नागरिक हैं। जो केवल अपनी नहीं बल्कि दूसरों की भलाई के लिए भी सोंचते हैं तो क्यों नहीं हम रक्तदान के पुनीत कार्य में अपना सहयोग प्रदान करें और लोगों को जीवनदान दें। उन्होने कहा कि कोई भी स्वस्थ व्यक्ति जो 18 से 50 वर्ष तक हो वह रक्तदान कर सकता है। उन्होने जिले के लोगों से अधिक से अधिक रक्तदान शिविर में हिस्सा लेने की अपील की। उधर शहर के शान्तीनगर स्थित आभा नर्सिंग होम में भी रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। डा0 वालेन्द्र सिंह सोदी व डा0 अभिषेक त्रिपाठी की देखरेख में 25 लोगों ने रक्तदान शिविर में पंजीकरण कराकर अपना-अपना रक्तदान किया। यहां भी चिकित्सकों ने कहा कि कोई भी स्वस्थ व्यक्ति रक्तदान कर सकता है। रक्तदान करने से किसी भी प्रकार की कमजोरी नहीं आती बल्कि शरीर में नये रक्त का निर्माण होता है। यह रक्त किसी की जिन्दगी बचाने में सहायक हो सकता है। इसलिए लोग अधिक से अधिक रक्तदान करें। इस मौके पर अस्पताल स्टाफ मौजूद रहा।

0Shares
Total Page Visits: 3777 - Today Page Visits: 4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *