मुकदमा दर्ज होने के बाद बैकफुट पर आये कांग्रेसी

जिलाध्यक्ष बोले सीएम का नहीं प्रदेश सरकार का फूंका था पुतला

फतेहपुर। उन्नाव रेप पीड़िता को जलाकर मार डालने के आरोपियों को फांसी की सजा दिये जाने के साथ ही प्रदर्शनकारी कांग्रेसियों पर लाठी चार्ज करने वाले पुलिस कर्मियों के विरूद्ध कार्रवाई किये जाने की मांग को लेकर रविवार की दोपहर पुलिस अधीक्षक आवास के समीप बुलेट चौराहा पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पुतले को आग के हवाले कर दिये जाने के मामले में पुलिस द्वारा पांच ज्ञात व बीस अज्ञात कांग्रेसियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर लिया है। मुकदमा दर्ज होने के बाद कांग्रेस जिलाध्यक्ष बैकफुट पर आते नजर आये। सोमवार को उनका कहना रहा कि कांग्रेसियों ने मुख्यमंत्री का नहीं बल्कि प्रदेश सरकार के पुतले को आग के हवाले किया था।
बताते चलें कि प्रदेश की बदहाल कानून व्यवस्था एवं कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस द्वारा की गयी बर्बरता के खिलाफ रविवार को कांग्रेसियों ने बुलेट चौराहा पर प्रदर्शन किया था। जिसमें उन्नाव की रेप पीड़िता को जलाकर मार डालने वाले आरोपियों को त्वरित फांसी की सजा दिलाये जाने के साथ ही कांग्रेसियों के ऊपर लाठी चार्ज करने वाले पुलिस कर्मियों को तत्काल निलम्बित करते हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लगाये गये मुकदमों को वापस लिये जाने की मांग की गयी थी। कांग्रेस के धरना-प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस अधीक्षक प्रशांत वर्मा के दिशा-निर्देशन में दो इंस्पेक्टरों समेत कई उपनिरीक्षक व बड़ी संख्या में पुलिस के जवान तैनात किये गये थे। इसके बावजूद चंद कांग्रेसियों ने पुलिस जवानों की आंख में धूल झोंकते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पुतले को आग के हवाले करते हुए प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की थी। पुतला दहन करने के बाद कांग्रेसी नारेबाजी करते हुए मौके से चले गये थे। इस मामले पर पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर देर शाम पांच ज्ञात व बीस अज्ञात कांग्रेसियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया था। पुलिस सभी की तलाश सरगर्मी से कर रही है। उधर जब इस बाबत कांग्रेस जिलाध्यक्ष अखिलेश पाण्डेय से बात की गयी तो उनका कहना रहा कि कांग्रेसियों ने प्रदेश सरकार की नीतियों व प्रदेश की लचर कानून व्यवस्था के खिलाफ प्रदर्शन किया था और प्रदेश सरकार के पुतले को ही आग के हवाले किया था। कांग्रेसियों ने मुख्यमंत्री योगी जी का पुतला नहीं फूंका। इसके बावजूद कांग्रेसियों पर फर्जी मुकदमा दर्ज किया गया है। जबकि रविवार को प्रदर्शन के दौरान जब कांग्रेसियों से मीडिया कर्मियों ने सवाल किया था कि यह पुतला किसका है तो कांग्रेसियों ने ऊंचे स्वर में जवाब दिया था कि यह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला है। अब सवाल यह उठता है कि मुकदमा दर्ज होने के बाद कांग्रेसी बैकफुट पर क्यों आ गये। इस मामले को लेकर शहर में भी तरह-तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म रहा।
नोट- ऊपर वाली खबर का बाक्स
25 कांग्रेसियों पर मुकदमा दर्ज
फतेहपुर। उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद दोषियों को फांसी की सजा दिलाये जाने व कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर पुलिस द्वारा लाठी चार्ज किये जाने के मामले में दोषी पुलिस कर्मियों को निलम्बित किये जाने की मांग को लेकर रविवार को कांग्रेसियों ने बुलेट चौराहा पर धरना देकर आवाज बुलन्द की थी। वहीं कांग्रेसियों के प्रदर्शन को लेकर भारी पुलिस बल भी तैनात था। इसके बावजूद चंद कांग्रेसियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पुतले को आग के हवाले कर दिया था। इस मामले में पुलिस ने रविवार की देर रात वीरेन्द्र सिंह चौहान, शिवाकांत तिवारी, राजन तिवारी, बब्लू कालिया व उदित अवस्थी समेत बीस अज्ञात कांग्रेसियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर लिया है। पुलिस पुतला दहन करने वाले कांग्रेसियों की तलाश में जुटी है।

0Shares
Total Page Visits: 714 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *