मण्डल कमीशन के सूत्रधार बीपी मण्डल को सपाईयों ने दी श्रद्धांजलि

अरूण जेटली के निधन पर शोक प्रस्ताव पारित
 जयन्ती पर बीपी मण्डल के चित्र में माल्यार्पण करते सपाई
फतेहपुर। समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय में रविवार को मण्डल कमीशन के सूत्रधार एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री बिन्देश्वरी प्रसाद मण्डल की 101 वीं जयन्ती मनाते हुए उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किये गये। वक्ताओं ने कहा कि बीपी मण्डल पिछड़े, शोषितों, अनुसूचित व पीड़ित वर्ग के मसीहा थे। जिसके चलते मण्डल कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर देश के अनगिनत लोगों को सरकारी नौकरी मिली और आज भी मिल रही हैं।
पार्टी कार्यालय में जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह यादव की अध्यक्षता में जयन्ती मनाई गयी। बैठक को सम्बोधित करते हुए पूर्व सांसद डा0 अशोक पटेल, पूर्व विधायक मदन गोपाल वर्मा ने कहा कि मण्डल जी ने सन 1979 में पूर्व प्रधानमंत्री मुरारजी देसाई एवं गृहमंत्री चौधरी चरण सिंह ने उन्हें बैकवर्ड क्लास कमीशन का अध्यक्ष नामित किया था। जिसकी रिपोर्ट स्व0 मण्डल ने 1980 में कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में दे दी थी। लेकिन कांग्रेस ने इस रिपोर्ट की सिफारिशों को लागू नहीं किया था। एक दशक बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री वीपी सिंह ने वर्ष 1990 में रिपोर्ट को लागू किया था। तत्पश्चात भारी विरोध के बीच 16 नवम्बर 1992 को सुप्रीम कोर्ट ने मण्डल कमीशन की रिपोर्ट लागू करने के फैसले को सही ठहराया था। वक्ताओं ने कहा कि बीपी मण्डल पिछड़ों के मसीहा थे। इन्हीं की देन है कि आज लाखों की संख्या में पिछड़े वर्ग के लोगों को सरकारी नौकरियां मिली और मिल रही हैं। इसलिए उनकी जयन्ती पर श्रद्धांजलि अर्पित की जा रही है। बैठक का संचालन जिला महासचिव मोईन खां ने किया। इस मौके पर पूर्व जिलाध्यक्ष दलजीत निषाद, वीरेन्द्र यादव, पूर्व ब्लाक प्रमुख रीता प्रजापति, राम बहादुर यादव, नगर अध्यक्ष नफीस उद्दीन, सियाराम यादव, तौफीक अहमद, शैलेन्द्र यादव, कपिल यादव, शमीम अहमद, फहमीदा खान, रेशमा सिद्दीकी, चौधरी मंजर यार, तरन्नुम परवीन, अनिल यादव, पप्पू आजम, संगीता राज पासी, वहीद कुरैशी, प्रेमनाथ विश्वकर्मा, सऊद अहमद, विष्णु स्वरूप बाल्मीकि, शिव सिंह यादव सहित बड़ी संख्या में सपाई रहे। उधर बैठक में जयन्ती की समाप्ति के बाद पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता अरूण जेटली के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए एक शोक प्रस्ताव पारित किया गया। साथ ही दिवंगत आत्मा की शांति एवं शोक संतृप्त परिजनों को दुख की इस घड़ी में धैर्य प्रदान करने के लिए सपाईयों ने दो मिनट का मौन धारण कर ईश्वर से प्रार्थना की।

0Shares
Total Page Visits: 1498 - Today Page Visits: 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *