बेटी की शादी की अनुमति के लिए दर-दर भटक रहा पिता

 कलेक्ट्रेट में अनुमति के लिए खड़े आवेदक
फतेहपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा किये गये लाकडाउन में भी लोग बेटे एवं बेटियों का विवाह करने से नहीं चूक रहे हैं। हांलाकि शादी की अनुमति के लिए उन्हें दर-दर की ठोंकरे भी खानी पड़ रही है। ऐसा ही एक मामला बुधवार को सामने आया। एक पिता अपनी बेटी की शादी की अनुमति के लिए कलेक्ट्रेट पर एसडीएम से मिलने आया। अनुमति न मिलने पर मायूस होकर वह बैरंग वापस लौट गया।
खखरेरू थाना क्षेत्र के उमरा गांव निवासी रोशन लाल ने अपनी पुत्री का विवाह पच्चीस अप्रैल को तय किया था। शादी की सभी तैयारियां भी पूरी कर ली गयी थी। लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते अचानक लाकडाउन घोषित कर दिया गया था। जिससे शादी की तारीख बढ़ाकर 18 मई तय कर दी गयी थी। लाकडाउन के दौरान कोरोना वायरस का संक्रमण फैलता जा रहा है। जिसके चलते केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा नये-नये नियम बनाये जा रहे हैं। शादी विवाह सहित अन्य कार्यक्रमों के लिए अब जिला प्रशासन की अनुमति लेना अनिवार्य है। जिसके चलते रोशनलाल पुत्री के विवाह की अनुमति के लिए दर-दर की ठोंकरे खाने के लिए विवश है। बुधवार को रोशनलाल परमीशन लेने के लिए कलेक्ट्रेट आया और उप जिलाधिकारी से मुलाकात की। लेकिन उसे खाली हाथ वापस लौटना पड़ा। निशान होकर उसने कहा कि अब वह पुत्री का विवाह कैसे करेगा और मायूस होकर गांव लौट गया।

0Shares
Total Page Visits: 265 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *