बिजली मूल्यों की वृद्धि का आप ने किया विरोध

बढ़ोत्तरी जनता के लिए अभिषाप-सुधाकर
ज्ञापन देने जाते आप के पदाधिकारी
फतेहपुर। प्रदेश सरकार द्वारा बिजली मूल्यों में की गयी वृद्धि को लेकर जहां राजनीतिक दलों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। वहीं समाजसेवी संगठनों ने भी इस मूल्य वृद्धि को जनता के लिए अभिषाप करार दिया है। आम आदमी पार्टी ने गुरूवार को कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर मूल्य वृद्धि तत्काल वापस लिये जाने की बाबत जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भेजा है।
आम आदमी पार्टी के जिला संयोजक/जिलाध्यक्ष श्रीराम पटेल एडवोकेट की अगुवई में पार्टी पदाधिकारियों ने बिजली दरों में की गयी मूल्य वृद्धि के विरोध में कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर इसे जन विरोधी करार दिया। प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए राज्यपाल को ज्ञापन भेजा गया। जिसमें कहा गया कि योगी सरकार द्वारा बिजली के मूल्य में बेतहाशा वृद्धि कर दी गयी है जो जन विरोधी के साथ-साथ जनता के लिए कष्टदायक है। मूल्य वृद्धि से समाज का सभी तबका प्रभावित हुआ है। दामों में मनमानी वृद्धि कर दी गयी है। जबकि प्रदेश में बिजली की उपलब्धता में निरंतर कटौती की जा रही है। वक्ताओं ने कहा कि विभाग को लगने वाले घाटे को सरकार जनता से वसूलने का प्रयास कर रही है। जबकि भ्रष्टाचार के चलते घाटा बिजली विभाग को उठाना पड़ता है। वक्ताओं ने कहा कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार पूरे देश में सबसे सस्ती और अबाध बिजली उपलब्ध करा रही है। वहीं प्रदेश सरकार दिल्ली से कई गुना महंगी बिजली देने के बाद भी कई बार मूल्य वृद्धि और कटौती में बढ़ोत्तरी क्यों कर रही है यह समझ से परे है। ज्ञापन में मांग की गयी कि प्रदेश सरकार द्वारा की गयी मूल्य वृद्धि को वापस कराया जाने के साथ ही कटौती बंद करायी जाये। अन्यथा की स्थिति में पार्टी आन्दोलन के लिए मजबूर होगी। इस मौके पर सम्पत कुमार सोनी, अगम सिंह यादव, अरविन्द सिंह, राम प्रताप, शशिकरण शुक्ल, संगीता देवी, मनोज कुमार सिंह, मो0 शाहजहां आदि मौजूद रहे।
उधर लोक मंगल साहित्य परिषद के अध्यक्ष सुधाकर अवस्थी ने प्रदेश सरकार द्वारा बिजली दरों में की गयी बेतहाशा वृद्धि को जनता के लिए अभिषाप बताते हुए कहा कि एक ओर जनता देश की पंचर अर्थव्यवस्था में मंदी की मार से परेशान है वहीं प्रदेश सरकार द्वारा बेतहाशा मूल्य वृद्धि कर दी गयी है। जिससे प्रदेशवासियों का जीना दुश्वार हो जायेगा। उन्होने कहा कि गैर सरकारी क्षेत्रों में नौकरी करने वालों की छटनी से लाखों लोग बेरोजगारी का दंश झेल रहे हैं। वहीं व्यापार में मंदी के कारण व्यापारी भी नुकसान उठा रहे हैं। इसके बावजूद सरकार ने बिजली दरों में वृद्धि कर दी है। श्री अवस्थी ने कहा कि पाटी के नेताओं को आर्थिक लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से निगमों व बोर्डों में नामित उपाध्यक्षों को भत्ता देने के लिए सरकार ने बिजली दरों में वृद्धि करके जनता के ऊपर बोझ डाला है। इससे पहले योगी सरकार डीजल, पेट्रोल के दामों में कर की दरें बढ़ाकर महंगे डीजल-पेट्रोल की सौगात जनता को दे चुकी है। उन्होने यह भी कहा कि करों में लगातार बढ़ोत्तरी करके प्रदेश सरकार राज्य के वेलफेयर स्टेट की अवधारणा को समाप्त करने में लगी है।

0Shares
Total Page Visits: 1881 - Today Page Visits: 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *