फतेहपुर। जांच को मारपीट में बदलने का प्रधान पर मढ़ा आरोप

बेरूई ग्राम प्रधान के खिलाफ सीडीओ से मिले ग्रामीण

– जांच को मारपीट में बदलने का प्रधान पर मढ़ा आरोप

फतेहपुर। असोथर विकास खण्ड की ग्राम पंचायत बेरूई में विगत दिनों तालाब खुदाई की जांच करने पहुंचे बीडीओ के समक्ष ग्राम प्रधान के साथ हुयी मारपीट के मामले में शुक्रवार को मुख्यालय आये ग्रामीणों ने मुख्य विकास अधिकारी से मुलाकात कर एक शिकायती पत्र सौंपा। जिसमें ग्राम प्रधान के भ्रष्टाचार के मामले उजागर करते हुए जांच को मारपीट में बदलने का प्रधान पर आरोप लगाया गया।

मुख्य विकास अधिकारी को दिये गये शिकायती पत्र में ग्रामीणों ने बताया कि गांव में नाला व तालाब की जेसीबी से खुदाई कराये जाने के मामले को लेकर की गयी शिकायत पर 27 मई को सीडीओ के निर्देश पर बीडीओ ने गांव में खुदवाये गये तालाब का निरीक्षण किया था। जिसमें प्रधान के साथ तमाम ग्रामीण भी थे। ग्रामीणों ने बताया था कि तालाब जेसीबी से खोदा गया है। दरेसी मजदूर लगाकर की गयी है। जेसीबी के निशान भी मौके पर पाये गये थे। प्रधान के पास इसका कोई जवाब नहीं था। बीडीओ ने 28 मई को बयान लेने की बात कही थी। बीडीओ शिकायतकर्ता से शैलेन्द्र पुत्र अम्बिका प्रसाद से बात कर रहे थे तभी प्रधान ललितउसका भाई व पिता शैलेन्द्र पर टूट पड़े और मारपीट शुरू हो गयी। ऐसे में जांच झगड़े में तब्दील हो गयी। ग्रामीणों ने बताया कि प्रधान वर्ष 2017 से भ्रष्टाचार करने में जुटे हुए हैं। कई मामले ऐसे हैं जिसमें जमकर भ्रष्टाचार किया गया है। ग्रामीणों ने सीडीओ से कहा कि वर्ष 2017 से अब तक राजवित्तचौदहवें वित्त एवं मनरेगा के सभी कार्यों का स्थल वार विवरण लेकर जांच करायी जाये स्वतः सिद्ध हो जायेगा कि एक ही कार्य में मनरेगा के साथ राजवित्त/चौदहवां वित्त से धन निकाला गया है। ग्रामीणों ने जल्द ही सक्षम अधिकारी से मामले की जांच कराये जाने की मांग की। इस मौके पर शैलेन्द्र कुमारअरूण कुमारबेनी प्रसादसाहिल कुमारयमुना प्रसादराम प्रसाद आदि मौजूद रहे।

0Shares
Total Page Visits: - Today Page Visits:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *