प्रशासनिक कार्रवाई के खिलाफ ग्रामीणों का प्रदर्शन

कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन करते ग्रामीण
फतेहपुर। भिटौरा विकास खण्ड की ग्राम सहिमापुर मजरे उन्नाव में जिला प्रशासन द्वारा बिना किसी पूर्व सूचना के अचानक जेसीबी से मकान ढहाये जाने से आक्रोशित ग्रामीणों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन करते हुए प्रशासन की इस कार्रवाई को लोक कल्याण की भावना के विरूद्ध ढहराया। प्रदर्शनकारियों ने मांग की है कि अनाधिकृत रूप से गिराये गये मकानों में रहने वालों को पुर्नस्थापित कराया जाये।
जिलाधिकारी को दिये गये ज्ञापन में ग्रामीणों ने बताया कि 25 अगस्त को गांव में अचानक प्रशासन की जेसीबी मशीन के साथ ही मजिस्ट्रेट व कर्मचारी पहुंचे और बिना किसी पूर्व सूचना के मकान गिराना शुरू कर दिया। ऐसा नजारा देखकर लोग ठगे से रह गये। ग्रामीण कुछ कह पाने व रोक पाने में असमर्थ्य रहे। मकानों को धराशायी किये जाने के आदेश के बाबत भी मौके पर पहुंचा स्टाफ बताने में असमर्थ रहा। प्रशासन की इस कार्रवाई से बेघर हुए लेगों के सामने रहने व पशुपालन आदि की समस्या उत्पन्न हो गयी है। गांव के लोगों ने बताया कि इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक वाद दायर किया गया था। जिसमें पशुचर, ग्राम समाज व तालाबों पर किये गये कब्जे को हटाये जाने का आदेश पारित हुआ था। लेकिन प्रशासन ने हाईकोर्ट के आदेशों पर अनुपालन न करते हुए सैकड़ों बरस से जीवन यापन करने वाले लोगों के मकान धराशायी करा दिये हैं। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से अवैध रूप से ढहाये जा रहे मकानों पर रोक लगाये जाने की मांग की है। इस मौके पर जमुना सिंह, राज बहादुर पाल, दयाशंकर पाल, राम बहादुर, हरिलाल, शैलेष कुमार, शिवपाल सिंह, बृजेश सिंह, मोतीलाल, सुदेवी, कामिनी, रतना, महेन्द्र सहित आधा सैकड़ा से अधिक ग्रामीण रहे।

0Shares
Total Page Visits: 1421 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *