प्रदेश सरकार की नाकामी के खिलाफ सपाई सड़कों पर उतरे

 राज्यपाल को सम्बोधित तेरह सूत्रीय ज्ञापन एसडीएम को सौंपा
 सदर तहसील में प्रदर्शन करते सपाई।
फतेहपुर। समाजवादी पार्टी के प्रान्तीय आहवान पर प्रदेश सरकार की नाकामियों सहित बिजली दरों में बेतहाशा वृद्धि व कमरतोड़ महंगाई को रोक पाने के विरोध में जिला इकाई के बैनर तले तीनों तहसील मुख्यालयों पर सपाईयों ने जुलूस निकाला और नारेबाजी करते हुए सम्बन्धित उप जिलाधिकारियों को राज्यपाल को सम्बोधित तेरह सूत्रीय ज्ञापन सौंपा। वक्ताओं ने प्रदेश सरकार को सभी मोर्चों पर विफल बताते हुए आमजन से इस सरकार को उखाड़ फेंकने का आहवान किया।
प्रान्तीय आहवान पर जिले की तीनों तहसीलों पर पदाधिकारियों की अगुवई में कार्यकर्ताओं ने एकत्र होकर जुलूस निकाला और सरकार विरोधी नारेबाजी के बीच उपजिलाधिकारियों को मांग पत्र सौंपा है। जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह यादव के नेतृत्व में पदाधिकारी व कार्यकर्ता नहर कालोनी में एकत्र हुए। यहीं से जुलूस निकालते हुए सदर तहसील मुख्यालय पहुंचे। जहां पर उप जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। वक्ताओं ने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार का सबका साथ-सबका विकास व सबका विश्वास नारा खोखला साबित हो गया है। लोकसभा चुनाव तक जनता को गुमराह किया जाता रहा। उसके तुरन्त बाद पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस और बिजली की दरों में बेतहाशा बढ़ोत्तरी कर दी गयी। इतना ही नहीं यातायात नियमों के नाम पर भारी भरकम जुर्माना लगाकर वाहन स्वामियों को आर्थिक रूप से खोखला भी कर दिया गया है। प्रदेश में बेतहाशा अपराध बढ़ने से जनमानस में दहशत है। कुल मिलाकर प्रदेश में कानून का राज खत्म होकर अब सिर्फ जंगल राज हो गया है। औद्योगिक सेमिट के नाम पर बेरोजगार नौजवानों को रोजगार के झूठे वादे कर उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। वक्ताओं ने कहा कि भाजपा सरकार केवल सियासी एजेण्डा साधने एवं विकास के नाम पर झूठा प्रचार करने में व्यस्त है। वक्ताओं ने कहा कि नौ अगस्त को जिला मुख्यालय पर शांतिपूर्ण धरना देकर राज्यपाल को भेजे गये समस्याओं के निराकरण की मांग सम्बन्धी ज्ञापन रद्दी की टोकरी मे डाल दिया गया है। जिसके चलते पार्टी को पुनः धरने के लिए मजबूर होना पड़ा है। वक्ताओं ने महंगाई पर नियंत्रण करते हुए विद्युत दरों की बढ़ोत्तरी को वापस लेने, किसानों की समस्याओं का निराकरण करने, बेरोजगार नौजवानों को रोजगार मुहैया कराने, पार्टी के कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न रोकने, भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने, स्वास्थ्य सेवाओं को सुचारू बनाने, जौहर विश्वविद्यालय में राज्य सरकार द्वारा किया जा रहा अत्याचार बंद कराकर सांसद आजम खां पर दर्ज कराये गये फर्जी मुकदमों को समाप्त करते हुए साथी विधायक अब्दुल्ला आजम पर की जा रही अवैध कार्रवाई व उत्पीड़न को रोकने जैसी मांगे शामिल हैं। इस मौके पर जिला महामंत्री मोईन खां, नफीस उद्दीन, दलजीत निषाद, चन्द्र प्रकाश लोधी, वीरेन्द्र यादव, हाजी रफी, हाजी रजा, वसीम अंसारी, सैय्यद आबिद हसन, रीता प्रजापति, तरन्नुम परवीन, चौधरी मंजर यार, अब्दुल मतीन खां, कपिल यादव, तबरेज वारसी टीलू, तनवीर हैदर, राजेन्द्र निषाद, सुहेल खान, प्रेमनाथ विश्वकर्मा, शिवशंकर, रावेन्द्र निषाद, शकील गोल्डी, देवेन्द्र सिंह लोधी, राजू कुर्मी, सऊद अहमद, जेपी यादव, फैजान अहमद मून, अयाज अहमद राहत, एनुल आब्दीन हुमायूं सहित तमाम सपाई मौजूद रहे।

0Shares
Total Page Visits: 834 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *