प्रदर्शन कर संचालकों ने मांगी डीजे बजाने की अनुमति

रोजी-रोटी का हवाला देकर एसडीएम को सौंपा ज्ञापन
 कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन करते डीजे संचालक
फतेहपुर। हाईकोर्ट द्वारा डीजे बचाने पर लगायी गयी रोक का शासन व प्रशासन द्वारा अमल किये जाने से प्रदेश सहित जिले में डीजे संचालन पर भी पाबंदी लगा दी गयी है। इस पाबंदी को डीजे संचालक रोजगार छिनने की संज्ञा दे रहे हैं। व्यापार मण्डल के नेतृत्व में डीजे संचालकों ने जिलाधिकारी को सम्बोधित एक ज्ञापन एसडीएम को सौंपकर डीजे का संचालन हेतु अनुमति दिये जाने की मांग की है।
गुरूवार को व्यापार मण्डल के संस्थापक अध्यक्ष किशन मेहरोत्रा व डीजे बैण्ड डेकोरेटर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष दिवाकर जायसवाल के नेतृत्व में जिले भर के डीजे संचालक नहर कालोनी में एकत्र हुए। यहां से जुलूस के रूप में कलेक्ट्रेट पहुंचे और जिलाधिकारी को सम्बोधित ज्ञापन सौंपकर प्रतिबन्ध को रोजी-रोटी छिनने की संज्ञा दी। ज्ञापन में बताया गया कि जिले में लगभग दो हजार डीजे संचालक हैं। इस व्यवसाय से तमाम कर्मचारी भी जुड़कर अपना व अपने परिवार के सदस्यों का जीवन-यापन करते हैं। हाईकोर्ट द्वारा पाबंदी लगाये जाने की वजह से संचालकों को डीजे बचाने की अनुमति नहीं मिल पा रही है। जिसके चलते परिवार सहित व्यवसाय से जुड़े कर्मचारियों का परिवार भुखमरी की कगार पर पहुंच गया है। इतना ही नहीं अन्य कोई रोजगार न होने की वजह से आर्थिक तंगी व बेरोजगारी का संकट भी उत्पन्न हो गया है। ज्ञापन में मांग की गयी है कि शासन-प्रशासन के दिशा-निर्देशों के उपरान्त संचालकों को डीजे बचाने की अनुमति प्रदान की जाये। ताकि संचालक व इस व्यवसाय से जुड़े कर्मचारियों का परिवार सामान्य जीवन जी सके। इस मौके पर अनिल कुमार गुप्ता, संदीप कुमार, मनोज साहू, कृष्ण कुमार तिवारी, रामचन्द्र मौर्य, रोहित यादव, शेख अमीन अहमद, रईस अहमद, पुष्पेन्द्र, नईम अहमद, अजीत कुमार, पप्पू सिंह, शैलेन्द्र साहू, साबिर, राजेन्द्र सिंह, उदयभवन, संजय साहू, रामनारायण सहित बड़ी संख्या में डीजे संचालक मौजूद रहे।

0Shares
Total Page Visits: 785 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *