पंजाब: 110 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बोरवेल से बच्चे को निकाला, मौत

जिले के भगवानपुरा गांव में एक सूखे पड़े बोरवेल को कपड़े से ढंककर छोड़ दिया गया था। फतेहवीर खेलते वक्त अनजाने में इसी बोरवेल के पास पहुंचा और उसमें गिर गया। शुरुआत में तो मां ने अपनी इकलौती संतान को बचाने की हर कोशिश की, लेकिन नाकाम रही। इसके बाद सूचना पाकर बचाव दल ने काम शुरू किया। बचाव दल रविवार तक बच्चे के करीब पहुंच गया था। लेकिन उसे निकाला नहीं जा सका, क्योंकि कुछ तकनीकी बाधा आ गई थी। अधिकारियों ने बताया कि बच्चे को खाना-पीना तो नहीं दिया गया है, लेकिन ऑक्सीजन की सप्लाई की जा रही है। बचाव दल में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ), पुलिस, नागरिक प्रशासन, ग्रामीण और स्वयं सेवी लोग शामिल रहे। ये लोग तपती गर्मी की परवाह किए बगैर पूरी मेहनत से बचाव अभियान चलाया।

दूसरा बोरवेल खोदा :  
बच्चे को बचाने के लिए बोरवेल के समांतर एक दूसरा बोरवेल खोदा गया और उसमें कंक्रीट का बना 36 इंच व्यास का पाइप डाला गया है। इस नये बोरवेल के जरिये ही बच्चे को मंगलवार सुबह बाहर निकाला गया। घटना स्थल पर कैंप लगाकर राहत अभियान पर पंजाब के सार्वजनिक निर्माण विभाग मंत्री विजय इंदर सिंगला ने लगातार नजर बनाई रखी।

0Shares
Total Page Visits: 2789 - Today Page Visits: 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *