नोएडा के पत्रकारों पर दर्ज मुकदमा वापस लेने की मांग

 डीएम को ज्ञापन सौंपते पत्रकार
फतेहपुर। जिला पत्रकार एसोसिएशन/संघ ने पत्रकार उत्पीड़न की बढ़ रही घटनाओं पर चिन्ता व्यक्त करते हुए नोएडा में पत्रकारों के साथ पुलिसिया बर्बरता एवं गैगेस्टर जैसे संगीन अपराधिक धाराओं का प्रयोग करने की कड़े शब्दों में निन्दा करते हुए मुख्यमंत्री से पंजीकृत किये गये फर्जी मुकदमे को तत्काल वापस लिये जाने की मांग की है।
एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सिंह भदौरिया के नेतृत्व में पत्रकारों का एक प्रतिनिधि मण्डल सोमवार को जिलाधिकारी से मिला। एसोसिएशन ने पांच सूत्रीय मांग पत्र मुख्यमंत्री को सम्बोधित जिलाधिकारी को सौंपा। जिसमें खबरों की खुन्नस मानते हुए नोएडा के एसएसपी द्वारा विधिक प्रक्रिया पूरी किये हुए गैंगेस्टर जैसे जघन्य आरोप में जेल भेजे गये पत्रकारों को बिना शर्त रिहा करने के साथ ही द्वेष भावना से दर्ज किये गये मुकदमे को वापस लेने की मांग की गयी है। ज्ञापन में यह भी कहा गया कि एसएसपी का कहना है कि पुलिस अधिकारियों की सांठगांठ से ब्लैकमेल करने पर मुकदमा दर्ज किया गया है। एसोसिएशन ने कहा कि यदि यह बात सही है तो पत्रकारों के माध्यम से रूपये वसूलने वाले पुलिस के अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर गैंगेस्टर लगाया जाये। पत्रकारों पर आये दिन होने वाली उत्पीड़नात्मक घटनाओं पर अंकुश लगाकर दोषियों को जेल भेजने, शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यरत पत्रकारों के लिए निःशुल्क बीमा योजना लागू कर हर पत्रकार का बीस लाख रूपये का बीमा कराने तथा एसोसिएशन को ट्रेड यूनियन की मान्यता प्रदान करने के साथ ही पत्रकार भवन/सूचना के नाम शहर के पथरकटा चौराहा स्थित प्रस्तावित भूखण्ड पर कब्जा दिलाये जाने की मांगे शामिल हैं। बताया गया कि इस भूखण्ड के लिए वर्ष 2005 व 11 में प्रस्ताव पारित किये जा चुके हैं। इस मौके पर आशीष दीक्षित, जयकेश पाण्डेय, अवनीश सिंह चौहान, देवेन्द्र पटेल, संदीप शुक्ला, इरफान काजमी, नफीस जाफरी, सूर्यसेन, नितेश कुमार, नीरज सिंह, मलय पाण्डेय, अरमान, जितेन्द्र वर्मा आदि रहे।

0Shares
Total Page Visits: 1660 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *