दूसरे सोमवार के बाद फिर जाम के झाम से जूझा राष्ट्रीय राजमार्ग

प्रातः से गाड़ियों का आवागमन ठप्प होने से यात्री रहे बेहाल

फतेहपुर। सावन मास के पहले सोमवार पर भी राष्ट्रीय राजमार्ग चौबीस घण्टे से अधिक जाम की चपेट में बाधित रहा। जिसके चलते लोगों को भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ा था। प्रशासन की लाख कोशिशों के बावजूद दूसरे सोमवार को भी पहले सोमवार से कहीं अधिक बदतर नजारा जाम के रूप में राष्ट्रीय राजमार्ग पर देखने को मिला। कोरांई मोड़ के निकट लगे जाम में यात्री वाहन घण्टां फंसे रहे। भीषण गर्मी में परिवार के साथ यात्रा कर रहे बच्चों का बुरा हाल रहा। जाम की स्थिति को देखते हुए हाईवे पर पड़ने वाले विद्यालयों के प्रबन्ध तंत्र ने अपने-अपने स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी। जाम के झाम में एम्बुलेन्स सवार गम्भीर रोगी भी कराहते दिखे।

बताते चलें कि प्रशासन ने पहले सोमवार पर आयी दिक्कतों के मद्देनजर दूसरे सोमवार की व्यवस्थाओं को चाक-चौबंद करने के लिए लखनऊ बाईपास से कानपुर की ओर से आने वाले वाहनों को डलमऊ, ऊंचाहार, प्रतापगढ़ होते हुए प्रयागराज जाने की व्यवस्था सुनिश्चित की थी। लेकिन पहले सोमवार की तरह फिर सारी व्यवस्थाएं धराशायी हो गयीं और लोगों को घण्टों जाम का सामना करना पड़ा। हाईवे पर लम्बी कतारें लग गयीं। इन कतारों में यात्री वाहनों के फंस जाने से यात्रा करने वालों को भारी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा। बस पर सवार तमाम लोगों ने कहा कि सावन मास सदियों से चला आ रहा है और कांवड़िये भी जलाभिषेक के लिए सड़कों पर चलते हैं। लेकिन प्रदेश की योगी सरकार ने नई परम्परा डालते हुए मार्गों में तब्दीली करा दी है। जिसके चलते लोगों को जाम की समस्या से जूझना पड़ रहा है। इससे पहले भी सावन मास के सोमवार पर पूजा-अर्चना व जलाभिषेक होते चले आये हैं लेकिन जाम की स्थितियां राजमार्गों पर कभी नहीं दिखी। जाम की भयावता को देखते हुए हाईवे पर पड़ने वाले छोटे बड़े सभी स्कूलों ने अपने स्कूल बंद कर बच्चों को छुट्टी का संदेश भिजवा दिया था। ताकि स्कूल आने वाले बच्चे जाम में न फंस सके। जाम के चलते जिला चिकित्सालय व अन्य निजी अस्पतालों से कानपुर के लिए रिफर किये जाने वाले मरीज भी जाम में घण्टों फंसे रहे। गम्भीर रोगियों के तीमारदार जाम में फंसे रहने पर सिर्फ और सिर्फ अपने मरीज की बेहतरी के लिए ईश्वर से कामना करते रहे। जाम में फंसे यात्री वाहनों पर सवार बूढ़े, बच्चे और जवान भीषण गर्मी में भूख और प्यास से तड़पते रहे। आस-पास होटलों पर महंगे दामों पर खाद्य सामग्री व पानी लेकर जरूरत को मजबूरीवश पूरी करना पड़ा। जाम को हटवाने के लिए मलवां, कल्यानपुर, सदर कोतवाली पुलिस कवायद में जुटी रही। लेकिन यह कवायद तत्काल काम तो नहीं आयी और जाम की स्थिति समाचार लिखे जाने तक बनी रही।

0Shares
Total Page Visits: 1432 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *