जिले में परम्परागत ढंग से मनाया गया धनतेरस महापर्व ,देर रात तक गुलजार रहीं बाजारें….

जिले में परम्परागत ढंग से मनाया गया धनतेरस महापर्व
– देर रात तक गुलजार रहीं बाजारें
– सोने-चांदी के आभूषण सहित अन्य सामानों की जमकर हुई खरीदारी

फतेहपुर। गंगा एवं यमुना के द्वोआबा में बसे जनपद में भी धनवंतरि (धनतेरस) महापर्व आज धूमधाम से मनाया गया। परम्परागत ढंग से लोगों ने विभिन्न धातुओं से निर्मित वस्तुयें खरींदी। खासकर आभूषणों और बर्तनों की दुकानों में ज्यादा भीड़ रही। जनपद मुख्यालय की मुख्य बाजार चैक में अर्द्धरात्रि के बाद भी खरीददारों की खासी भीड़ जमा थी और लोग दुकानों में अपनी-अपनी पसंद का सामान खरीदने के लिए पहॅंुचे। धनतेरस का पर्व अपने आप में एक परम्परा का अंग है जो दीपावली के दो दिन पूर्व मनाया जाता है। धन के देवता कुबेर एवं मृत्यु देवता यमराज की सनातन धर्म के अनुयायियों ने पूजा-अर्चना कर गृहस्थी में धन सम्पदा अर्जित करने के लिए सोने-चांदी के जेवरात, सिक्के एवं गृहस्थी के सामानों की खूब जमकर खरीदारी कर धार्मिक त्योहार की परम्पराओं का निर्वहन किया।
धनतेरस के अवसर पर चैक बाजार की व्यस्तता एक बार फिर शीर्षता को स्पर्श कर रही थी। धातु बाजार में तो जैसे तिल भर की भी जगह नहीं बची थी। यही नहीं बाजार के दूसरी ओर लइया, गट्टा, पट्टी, खिलौने आदि की दुकानों में दोपहर से जो सघन खरीददारी का दौर शुरू हुआ वह देर रात तक जारी रहा। वैसे भी व्यस्त जीवन से शाम को निजात पाने वाले नौकर पेशा लोग अपने परिवारों के साथ अमूमन सूर्यास्त के बाद ही यहां खरीददारी को निकलते हैं। इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ। शाम ढलते ही सोने चांदी की दुकानों में सहसा रौनक बढ़ गयी और दोपहर तक मायूस दिख रही बर्तन मण्डी में भी भीड़ ने जैसे कदम रखा बर्तन बाजार के संचालकों का उत्साह बढ़ गया। धनतेरस का पर्व पूरे जनपद में परम्परागत ढंग से हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। लोगों ने धातु और खानपान के सामानों के साथ गणेश लक्ष्मी की मूर्तियां खासकर जो मिट्टी और पीओपी से निर्मित थी उनकी खरीददारी की। बच्चों का खिंचाव तो खिलौने के साथ-साथ पटाखों की ओर था। इन दुकानों में भी जमकर खरीददारी हुई। यही नहीं इलेक्ट्रानिक दुकानों में दोपहर से ही भीड़ लगी थी। शहर की लगभग सभी इलेक्ट्रानिक दुकानों में दीवाली धमाका और बम्पर धमाका आफर पेश किया गया। चार पहिया से लेकर मोटर साइकिल, टीवी, फ्रिज, वाशिंग मशीन आदि इलेक्ट्रानिक सामानों की जमकर खरीददारी हुई। वैसे भी धनतेरस के दिन इन सामानों की खरीददारी का खास महत्व होता है। ऐसे में महीनों से इस दिन का इंतजार कर रहे लोगों ने जीभर कर सामान खरीदे। कहने को तो महंगाई से हर कोई आहत था किन्तु बाजार की व्यस्तता और भीड़ से कहीं से भी नहीं लग रहा था कि महंगाई का खरीददारों पर कोई असर पड़ा। इतना जरूर था कि निचला तबका इस बार हाथ सिकोड़ कर चल रहा है।

भगवान धनवंतरि की पूजा अर्चना कर मांगा आशीर्वाद
फतेहपुर। धन-संपदा एवं सुख-समृद्धि प्रदान करने वाली माॅं लक्ष्मी तथा निरोगी काया प्रदान करने के लिए देवताओं के वैद्य भगवान धनवन्तरि की हिन्दू समुदाय के लोगोें ने विधि-विधान से पूजा अर्चना कर तेरह दीप जलाये। अश्वनी माह की तेरस को समुद्र मंथन कर निकले अमृत कलश को लाने वाले भगवान धनवन्तरि की जयंती पर्व पर एवं देवताओं के वैद्य से सुख-समृद्धि की कामना करने के साथ-साथ आज के दिन गृहोपयोगी वस्तुएं बर्तन, सोने-चाॅंदी, हीरे-जवाहरात के आभूषण खरीदकर धन की देवी लक्ष्मी एवं भगवान धनवन्तरि की पूजा-अर्चना कर तेरह दीप जलाकर सभी मनोरथ पूर्ण होने की कामना किया। आधुनिकता के दौर में जहाॅं लोहे की वस्तुएं खरीदना अशुभ माना जाता था। आज मोटरसाइकिल एवं इलेक्ट्ानिक सामानो की खरीददारी करने के लिए शोरूम में भारी भीड़ लगी रही। यही नही रात बारह बजे तक बाजारों मे टीवी, फ्रिज, रेफ्रीजरेटर, कम्प्यूटर, लैपटाप की बिक्री धड़ल्ले से जारी रही।

0Shares
Total Page Visits: 1069 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *