जिले के लाल का नाम एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज 

जिले के लाल का नाम एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज 
कहते है समाज सेवा से बड़ा कोई धर्म नही और इसी धर्म को कितने लोग निभाते है यह किसी से छुपा नही है… मगर इस धर्म को बाखूबी निभाया है डॉक्टर अनुराग श्रीवास्तव ने जहाँ एक ओर धरती का भगवान कहे जाने वाले डॉक्टर चकाचौंध भरे इस दौर में लोगो का शोषण करने का कोई भी मौका हाथ से नही जाने देते हैं…
 फतेहपुर जिले के पनी मोहल्ले की शरज़मी पर जन्मे डॉक्टर अनुराग श्रीवास्तव जिनका होम्योपैथी क्लिनिक सदर कोतवाली के पास है और काफी समय से अनवरत् ग्रामीण व शहरी क्षेत्र के प्राथमिक व जूनियर विद्यालयों के बच्चों को चिकन पॉक्स, डेंगू, निपाह, लूह से बचाव हेतु निशुल्क होम्योपैथी औषधि का वितरण करते चले आ रहे है… इन्होंने मलिन बस्ती में निर्धन बच्चों संग नागरिकों को भी दवा वितरण करने में भी कभी कोई संकोच नही किया… डॉक्टर अनुराग श्रीवास्तव अब तक 130 कैम्प लगा कर 40 हज़ार से अधिक बच्चों को निशुल्क औषधि वितरण कर समाज की निशुल्क सेवा करते चले आ रहे है… इनके अंदर समाज सेवा का जुनून देखा जा सकता है, लोगो को समाज सेवा के प्रति जागरूक करने की एक मिशाल से कम नही… इनके निस्वार्थ भाव से की जा रही सेवा के जुनून को देखते हुए कई जगह इनको सम्मानित भी किया जा चूका है… जिस समय इनका नाम इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में नाम दर्ज हुआ था उस समय जिले में चर्चा का विषय बने हुवे थे, तो वही एक और उपलब्धि हाशिल कर नायाब हो गए है… इनके द्वारा की जा रही समाज सेवा को देखते हुवे एशिया बुक्स ऑफ रिकार्ड में भी इनका नाम दर्ज हो गया है… एशिया बुक ऑफ रिकार्ड में नाम दर्ज कराकर समाज के लिए एक मिशाल तो बने ही है साथ ही अपने देश और जिले का गौरव बढ़ाने का भी काम किया है ।
0Shares
Total Page Visits: 2588 - Today Page Visits: 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *