जफर इकबाल को साहित्य-सेवा के लिए एक लाख का एवार्ड

 शायर जफर इकबाल जफर
फतेहपुर। उर्दू के मशहूर शायर जफर इकबाल जफर को मजमुई अदबी खिदमात बराए शाइरी 2018 एवं सम्पूर्ण साहित्यिक सेवा के लिए उर्दू एकेडमी लखनऊ ने एक लाख रुपए का एवार्ड देने का ऐलान किया है। साहित्य के क्षेत्र में पहली बार मिले इतने बड़े एवार्ड के लिए शहर व जिले के शायरों और अदीबों ने उन्हें बधाई दी है।
उर्दू के जाने-माने शायर शहर के खेलदार मुहल्ला निवासी जफर इकबाल जफर को उर्दू एकेडमी की ओर से उनकी साहित्यिक सेवा एवं उर्दू अदब की सम्पूर्ण खिदमात के लिए एक लाख रुपए सम्मान स्वरूप देने का ऐलान किया गया है। उनकी इस उपलब्धि के लिए शहर एवं जिले के शायरों व अदीबों ने उन्हें बधाई दी। शायर कमर सिद्दीकी ने कहा कि पहली बार जिले के हिस्से में इतना बड़ा पुरस्कार आया है। जो जनपद के लिए सम्मान की बात है। जफर इकबाल जफर उन शायरों में हैं। जिन्होंने जनपद को पूरी दुनिया में नाम दिया है। इस सम्मान के लिए वरिष्ठ शायर गुलाम मुर्तजा राही, कहानीकार डॉ0 जमाल, डॉक्टर रफीक, मोइनुद्दीन एडवोकेट, डॉ0 इस्माइल आजाद, फजलुर्रहमान असलम, हाफिजुर रहमान हफीज, कासिम रशीद, शिवशरण बंधु हथगामी, डॉक्टर वारिस अली अंसारी, शिवम हथगामी आदि ने दिली मुबारकबाद दी है। जफर इकबाल जफर जनपद के उस्ताद शायरों में हैं। उनका एक कहानी संग्रह काले हर्फ भी प्रकाशित हो चुका है और इस पर उन्हें पुरस्कृत भी किया जा चुका है। उनकी गजल संग्रह प्रकाशनाधीन है। इकबाल जफर उर्दू के उस्ताद (गुरू) के रूप में भी जाने जाते हैं और उनके पढ़ाए हुए तमाम हिंदू परिवार के बच्चे भी उर्दू शिक्षक के रूप में सेवा कर रहे हैं।

0Shares
Total Page Visits: - Today Page Visits:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *