चौथे दिन भी धरने पर लेखपालों ने बुलन्द की आवाज

सदर तहसील में धरने के दौरान नारेबाजी करते लेखपाल
फतेहपुर। उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ द्वारा अपनी मागो को लेकर किये जा रहे आन्दोलन के क्रम में जनपद के लेखपालों ने सदर तहसील में चौथे दिन भी धरना देकर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। लेखपालों ने जल्द से जल्द शासनादेश जारी किये जाने की मांग उठायी।
सोमवार को उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ उप शाखा सदर के जिलाध्यक्ष कधईलाल पाल की अगुवई में समस्त लेखपालों ने तहसील प्रांगण में चौथे दिन भी धरने पर डटे रहे। पूर्ण कार्य बहिष्कार का कार्यक्रम के तहत लगातार धरना जारी है। धरने को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि एसीपी विसंगति, वेतन उच्चीकरण, प्रोन्नति काडर रिव्यू, पेंशन विसंगति, भत्ते, लेखपाल का पदनाम परिवर्तन, राजस्व निरीक्षक सेवा नियमावली 2018 प्रख्यापित किये जाना व प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि मध्य प्रदेश की भांति 18 रूपये प्रति खाता इंसेन्टिव हेतु लेखपालों को दिये जाने को लेकर शासन द्वारा सहमति तो बन गयी लेकिन शासनादेश जारी नहीं किया जा रहा है। जिसको लेकर लेखपालों में खासी नाराजगी है। वक्ताआें ने कहा कि लेखपाल अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। जब तक यह लड़ाई अन्तिम चरण तक नहीं पहुंच जाती तब तक लेखपालों का संघर्ष जारी रहेगा। लेखपालों ने धरनास्थल पर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर जहर उगला। धरने का संचालन तहसील जिला मंत्री बीरेन्द्र सिंह ने किया। इस मौके पर बहाउद्दीन सिद्दीकी, विवेक तिवारी, कमल सिंह, दिनेश सिंह, दीपक तिवारी, अंशुमान तिवारी, अशोक कुमार तिवारी, ऋष्टि सचान, सोनी देवी, नीलू देवी, अमित कुमार, संतोष कुमार, वीरेन्द्र सिंह, तेजपाल सिंह, संतोष कुमार यादव, अजय पाल मौर्य, आदित्य कुमार, रावेन्द्र कुमार, अशोक कुमार तिवारी, रूखसार बानो, अर्चना सिंह, कु0 कल्पना देवी सहित बड़ी संख्या में लेखपाल मौजूद रहे।

0Shares
Total Page Visits: 719 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *