खस्ताहाल सड़कों पर शहरियों का चलना हुआ दूभर

 योगी के गड्डायुक्त आदेश को हवा में उड़ा रहे विभागीय अधिकारी
 खस्ताहाल अस्ती-कोतवाली मार्ग का दृश्य
फतेहपुर। वर्तमान समय में शहर के सभी प्रमुख मार्गों की हालत बेहद खस्ताहाल है। जिसके कारण शहरियों का मार्गों पर चलना भी दूभर हो गया है। जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीएम पद की शपथ लेते ही प्रदेश की सभी सड़कों को गड्ढामुक्त किये जाने के आदेश दिये थे। लेकिन उनके इन आदेशों के उलट शहर में काम हो रहे हैं। शहर की सभी सड़कें गड्ढों में तब्दील हो गयी है। बड़े-बड़े गड्ढों में प्रतिदिन वाहन सवार गिरकर चुटहिल भी हो रहे हैं। इसके बावजूद जिला प्रशासन की निगाह इन खस्ताहाल सड़कों पर नहीं जा रही है।
बताते चलें कि तत्कालीन जिलाधिकारी रहे आंजनेय कुमार सिंह के कार्यकाल के दौरान शहर में बड़े पैमाने पर अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया था। यह अभियान युद्ध स्तर पर जीटी रोड, अस्ती-कोतवाली रोड, बिन्दकी बस स्टाप रोड, पथरकटा चौराहा, पटेलनगर चौराहे पर चला था। अभियान की जद में आये मकानों एवं दुकानों को ध्वस्त करने का काम किया गया था। इन मकानों व दुकानों का मलबा आज भी रोडों पर पड़ा हुआ है। जिसको जिला प्रशासन से आज तक हटाने का काम नहीं किया। परिणाम यह हुआ कि शहर के सभी प्रमुख मार्ग आज गड्ढों में तब्दील हो गये हैं। नालियां पूरी तरह से ध्वस्त होकर चोक पड़ी हुयी हैं। नालियों का गंदा पानी सड़कों पर बह रहा है। सबसे ज्यादा खस्ता हालत अस्ती-कोतवाली रोड व अस्पताल तिराहा से शादीपुर नाका तक की है। इन दोनों मार्गों पर बडे-बड़े गड्ढे हैं। जिन पर वाहन सवारों के साथ-साथ पैदल चलने वाले राहगीर भी दुश्वारियां उठा रहे हैं। स्थानीय लोगों के साथ-साथ इस भयावह समस्या को लेकर मीडिया कर्मियों ने कई बार आवाज उठायी। लेकिन जिला प्रशासन के कानों में जूं तक नहीं रेंगी। त्योहारों के समय भी लोगों को इन गड्ढा युक्त व कीचड़युक्त मार्गों से ही होकर गुजरना पड़ा। पीस कमेटी की बैठकों में भी इन मार्गों को बनवाये जाने की आवाज उठायी गयी। जिसमें जिला प्रशासन ने सदस्यों को आश्वस्त किया था कि मार्ग दुरूस्त करा दिये जायेंगे। लेकिन इन मार्गों की दशा सुधारने के लिए जिला प्रशासन ने कोई कदम नहीं उठाये। इतना ही नहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का फरमान भी इन अधिकारियों के लिए कोई सबक नहीं है। यहां के अधिकारी व कर्मचारी अपनी मनमानी पर ही उतारू हैं। जिसके चलते शहरियों को खस्ताहाल सड़कों पर चलने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों ने एक बार फिर जिला प्रशासन से इन खस्ताहाल मार्गों को बनवाये जाने की मांग की है।

0Shares
Total Page Visits: 509 - Today Page Visits:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *