कोरोना कर्फ्यू : जान है तो जहान

 साइकिल से गन्तव्य को जाते प्रवासी
फतेहपुर। कोरोना महामारी के दौरान हुए लॉकडाउन में महानगरों से प्रवासी श्रमिकों के पलायन का सिलसिला जारी है। गांव लौटने वाले अधिकतर मजदूर कोरोना संक्रमण फैलने के डर की जगह कामकाज बन्द होने के बाद भूखे मरने से बचने के लिये गांव का रुख कर रहे है। इसे सरकारों की लापरवाही कहा कहें या संवेदनहीनता की हद। अधिकतर मजदूरो के पास न तो खाने को राशन है और न ही उसे खरीदने के लिये पैसा। सरकारी दावे हवा हवाई ही साबित हो रहे ही। ऐसे में गांव वापस लौटना ही विकल्प बचता है। किराये तक के लिये पैसा न होने के कारण पैदल व साइकिल का सहारा लेने को मजबूर है। बुधवार को नेशनल हाइवे पर गुनगांव से जौनपुर के लिये एक दर्जन मजदूरों का जत्था साईकिल से गुजरा। भूख प्यास से बेहाल यह मजदूर किसी तरह अपने गांव पहुंचना चाहते हैं। खाने पीने को पूछने पर बताया कि प्रदेश की सीमा पर पुलिस ने लंच पैकेट दिये थे।

0Shares
Total Page Visits: 252 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *