कोराना वायरस महामारी के दौरान बलिया में वृद्धाश्रम के संवासियों के प्रति लापरवाही पर मण्डलायुक्त ने जताई सख्त नाराजगी….

कोराना वायरस महामारी के दौरान बलिया में वृद्धाश्रम के संवासियों के प्रति लापरवाही पर मण्डलायुक्त ने जताई सख्त नाराजगी

 बलिया की संचालक संस्था को ब्लैक लिस्टेड करने की शासन को भेजी संस्तुति, आज़मगढ़ की संचालक संस्था के लिए रिमाइण्डर

      आज़मगढ़ 30 अप्रैल — मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने वर्तमान में कोरोना वायरस की महामारी के कारण घोषित लाकडाउन के दौरान जनपद बलिया के गड़वार स्थित वृद्धा आश्रम के बुजुर्गों का स्वास्थ्य परीक्षण, साफ सफाई के साथ अन्य मूलभूत सुविधायें उपलब्ध नहीं कराये जाने के कारण आश्रम संचालित करने वाली संस्था जनता सेवा शिक्षा संस्था थुम्मा गड़वार को भी ब्लैक लिस्टेड करने हेतु शासन को संस्तुति भेज दी है। ज्ञातव्य हो कि मण्डलायुक्त ने गत दिवस वृद्धाश्रमों के रख रखाव एवं संवासियों को अनुमन्य सुविधायें उपलब्ध कराये जाने में घोर अनियमितता की शिकायत मिलने पर तीन मण्डलीय अधिकारियों की टीम गठित कर मण्डल के जनपदों में स्थापित वृद्धाश्रमों का विधिवत् निरीक्षण कराया। उक्त टीम में सम्मिलित अपर आयुक्त प्रशासन अनिल कुमार मिश्र, संयुक्त कृषि निदेशक एसके सिंह एवं उप निदेशक समाज कल्याण सुरेश चन्द ने मण्डलायुक्त को प्रस्तुत जाॅच रिपोर्ट में अवगत कराया कि जनपद बलिया में जनता सेवा शिक्षा संस्थान थुम्मा गड़वार द्वारा संचालित वृद्धाश्रम के निरीक्षण के समय मात्र 37 वृद्ध मौके पर पाये गये थे, जबकि पंजीकृत संवासियों की संख्या 68 दिखाई जा रही है। इसी प्रकार वर्तमान में आसन्न कोरोना वायरस की महामारी के चलते घोषित लाकडाउन के दौरान महीने भर से अधिक समय से इन बुजुर्गों का न तो मेडिकल चेकअप कराया गया था और न ही उन्हें सेनेटाइजर, मास्क आदि ही उपलब्ध कराये गये थे।

 

इसके अलावा आश्रम की साफ सफाई भी अत्यन्त दयनीय पाई गयी। इसके अलावा अनुमन्य बुनियादी सुविधाओं से भी आश्रम में रह रहे बुजुर्गों को महरूम रखा गया था। यह भी उल्लेखनीय है कि जनपदों में वृद्धाश्रमों का संचालन यद्यपि कि स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा किया जाता है परन्तु वे समाज कल्याण विभाग द्वारा वित्त पोषित हैं। मण्डलायुक्त ने वृद्धाश्रम की दुव्र्यवस्था एवं प्रथम दृष्टया शासकीय धन का दुरुपयोग का दोषी पाये जाने के कारण उक्त वृद्धाश्रम संचालित करने वाली संस्था जनता सेवा शिक्षा संस्थान थुम्मा गड़वार को ब्लैक लिस्टेड करने हेतु शासन को संस्तुति प्रेषित कर दी है। इसी क्रम में उन्होंने आज़मगढ़ के मुहल्ला आराजी बाग स्थित वृद्धाश्रम की संचालक संस्था जेपीएस फाउण्डेशन लखनऊ को ब्लैक लिस्टेड करने के सम्बन्ध में शासन को रिमाइण्डर भी प्रेषित किया है। ज्ञातव्य हो कि गत दिवस मण्डलायुक्त के निर्देश पर मण्डलीय टीम द्वारा आज़मगढ़ एवं मऊ में संचालित वृद्धाश्रमों का भी निरीक्षण किया गया था। निरीक्षण में जनपद मऊ के मुहम्मदाबाद में स्वण् तपेश्वर राम कल्याण समिति सैदपुर मुहम्मदाबाद द्वारा संचालित आश्रम की स्थिति सन्तोषजनक पाई गयी थी, परन्तु आज़मगढ़ की स्थिति अत्यन्त खराब मिलने पर गत सप्ताह संचालक संस्था जेपीएस फाउण्डेशन को ब्लैक लिस्टेड करने की संस्तुति मण्डलायुक्त द्वारा भेजी गयी थी।

0Shares
Total Page Visits: 337 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *