” कानून व्यवस्था समाज की आधारशिला है ” आज़मगढ़ जिले में मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने कहा…..

आज़मगढ़ 23 जून — प्रदेश के मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि संवाद हमारी सबसे बड़ी ताकत है, अधिकारीगण उस ताकत का निरन्त इस्तेमाल कर प्रदेश में कानून व्यवस्था बनाये रखते हुए विकास की गति को निर्वाध्या रूप से संचालित कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि संवाद वन-वे नहीं होना चाहिए बल्कि हर स्तर पर आमजन के साथ ही जनप्रतिनिधियों से हर स्तर पर निरन्तर संवाद बनाये रखें, जिससे समस्याओं का स्थानीय स्तर पर ही समाधान जाय और आमजन को समस्याओं के समाधान हेतु लखनऊ तक भागदौड़ करने से बचाया जा सके। मा0 मुख्यमन्त्री श्री योगी आदित्यनाथ रविवार को आयुक्त कार्यालय के सभागार में मण्डल के तीनों जनपदों की कानून व्यवस्था एवं विकास कार्यक्रमों के अन्तर्गत विभिन्न बिन्दुओं पर समीक्षा कर रहे थे। उन्होने कानून व्यवस्था की समीक्षा के दौरान जनपद आज़मगढ़ में पर्याप्त संसाधन के उपरान्त भी आपराधिक घटनाओं में अपेक्षित कमी का अभाव मिलने तथा मऊ में रोक के बावजूद वाहनों पर लाल एवं नीली बत्तियों के प्रयोग पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए सम्बन्धित पुलिस अधीक्षकों का तत्काल इसकी मानीटरिंग करते हुए प्रभावी कार्यवाही का निर्देश दिया। उन्होंने जनपद बलिया के सम्बन्ध में कहा कि बिहार से सटा होने के कारण यहॉं अपराध और तस्करी की संभावनायें अधिक रहती हैं, इसलिए इस पर फोकस करना जरूरी है। इसके साथ ही उन्होंने सभी पुलिस अधीक्षकों को यह भी निर्देश दिया कि समाज विरोधी एवं राष्ट्र विरोधी तत्वों की गतिविधियों पर प्रभावी अंकुल लगाने हेतु थानावार टॉंप-10 अपराधियों की सूची तैयार करें तथा किसी भी घटना घटित होने से पहले ही उनपर कठोर कार्यवाही की जाये ताक अन्य अपराधियों में कानून व्यवस्था का भय पैदा हो सके। उन्होंने वर्षों से एक ही स्थान पर कार्यरत एवं आपराधियों के साथ साठगॉंठ रखने वाले पुलिस कर्मियों की सूची भी तैयार कर उन्हें अन्यन स्थानान्तरित करने का निर्देश देते हुए आगाह किया कि यदि कहीं भी कोई आपराधिक घटना होती है तो पूरे थाने के साथ ही सम्बन्धित सर्किल के अधिकारी को भी जिम्मेदार मानते हुए कार्यवाही की जायेगी।

मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कानून व्यवस्था समाज की आधारशिला है, यदि यह सुदृढ़ नहीं तो शेष कार्य आगे बढ़ा पाना संभव नहीं हो सकेगा। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार पर आम जनता का विश्वास होना जरूरी है, इसके लिए उनसे निरन्तर संवाद बनाये रखा जाना जरूरी है। उन्होने निर्देश दिया कि बाल अपराध, यौन अपराध, महिला अपराध सहित अन्य जघन्य अपराधों में यह सुनिश्चित किया जाये कि चार्जशीट आदि समय से दाखिल कराकर केस को फास्ट्रैक कोर्ट में ले जाकर उसकी प्रभावी पैरवी कराते हुए अपराधी को समय सीमा के अन्दर सजा करायें, ताकि अन्य अपराधियों को नसीहत मिल सके। उन्होने सभी पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिया कि किसी भी पुलिसकर्मी के विरुद्ध यदि अवैध वसूली की शिकायत मिलती है तो सम्बन्धित के विरुद्ध तत्काल एफआईआर दर्ज कराते हुए सख्त कार्यवाही सुनिश्चित की जाय। उन्होंने कहा कि युनिफार्म के बल पर अराजकता, अवैध वसूली, तस्करी आदि पर सख्ती से रोक लगाई जाय। मा0 मुख्यमन्त्री जी ने बाइकर्स द्वारा आयेदिन हो रही लूट की घटनाओं पर नाराजगी व्यक्त करते हुए निर्देश दिया कि लगातार पेट्रोलिंग कराते रहें बिना लाइसेंस, बिना हेल्मेट कोई भी वाहन चलाते हुए या स्टण्ट करते हुए पाया जाये तो तुरन्त नियमानुसार कार्यवाही करें, इसके साथ ही टूव्हीलर पर किसी भी दशा में दो से अधिक लोग नहीं होने चाहिए।

मुख्यमन्त्री योगी आदित्य नाथ ने विकास कार्यक्रमों की प्रगति की समीक्षा के दौरान मण्डल में तीनों जनपदों में स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत जियो टैगिंग की स्थिति सन्तोषजनक नहीं पाई। उन्होंने इस पर नराजगी व्यक्त करते हुए तत्काल जियो टैगिंग का पूर्ण कराने का निर्देश देते हुए यह भी कहा कि जबकि मण्डल पूरी तरह से ओडीएफ नहीं हो जायेगा तब तक मण्डल में स्वच्छ भारत अभियान चलता रहेगा। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान तीनों जनपद के मुख्य चिकित्साधिकारियों को निर्देशित किया कि जेई के उपचार की सभी व्यवस्थायें हर समय तैयार मिलनी चहिए, सुविधाओं के अभाव में किसी की मृत्यु नहीं होनी चाहिए। मा0 मुख्यमन्त्री जी ने पालिथीन एवं थर्माकोल के प्रति पूरी ताकत के साथ अभियान चलाकर लोगों को जागरूक करते हुए इसे पूरी तरह से प्रतिबन्धित करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य, पर्यावरण आदि पर पड़ने वाले इनके कुप्रभावों से यदि लोगों को प्रभापूर्ण ढंग से जागरुक किया जाये तो निश्चित रूप से इसमें सफलता मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमन्त्री आवास योजना (शहरी) में लाभार्थियों के चयन में प्रायः अवैध धन उगाही की शिकायतें मिलती रहती है। उन्होंने सख्त निर्देश दिया कि यदि भविष्य में इस प्रकार की शिकायत मिलती है तो सम्बन्धित के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराते हुए उसके खिलाफ कार्यवाही सुनिश्चित की जाय। मा0मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने आयुष्मान भारत की समीक्षा में मण्डल के तीनों जनपदों में गोल्डेन कार्ड वितरण की कम स्थिति पर भी असन्तोष व्यक्त किया।

 

उन्होने निर्देश दिया कि जो कार्ड आ गये हैं उसका वितरण तत्काल कराया जाना सुनिश्चित किया जाय। उन्होंने शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान निर्देश दिया कि जुलाई के प्रथम सप्ताह में बेसिक शिक्षा परिषद के सभी स्कूलों में निःशुल्क पुस्तकों का वितरण तथा जुलाई माह के अन्तग तक ड्रेस का वितरण सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने कहा कि 1 से 7 जुलाई तक वन महोत्सव मनाया जा रहा है इसमें स्कूल के सभी बच्चों को पौधरोपण के प्रति जागरूकत करें तथा प्रयास करें कि प्रत्येक छात्र एक पेड़ अवश्य लगायें। उन्होंने सभी बीएसए एवं जिला विद्यालय निरीक्षक को निर्देशित किया कि अपने अपने जनपद के सभी प्रधानाचार्यो के साथ 30 जून से पहले बैठक अनिवार्य रूप से करें जिसमें महिला सुरक्षा, स्वच्छता, संचारी रोग आदि के बारे में अनिवार्य रूप बताया जाये, जिससे वे लोग बच्चों को जागरूक करें। उन्होनें यह भी निर्देश दिया कि उक्त बैठक में स्वास्थ्य, पुलिस, पंचायत आदि विभागों के अधिकारी भी प्रतिभाग करें। उन्होने नगरीय क्षेत्रों में वाहन स्टैण्ड, सड़कों के किनारे दुकानदारों आदि से अवैध वसूली पर सख्ती से अंकुश लगाने का निर्देश देते हुए कहा कि सड़कों पर किसी भी प्रकार की वसूली बर्दाश्त नहीं की जायेगी, इस लिए सम्बन्धित अधिकारी इस ओर विशेष ध्यान देकर इस पर रोक लगायें। एण्टी भू माफिया के अन्तर्गत जमीन को खाली करायें और जो भूमि खाली हो रही है उसे पात्र लाभाथियों में आवंटित भी करें। उन्होनें निर्देश दिया कि अवैध शराब के विरुद्ध अभियान चलायें इसके साथ ही सरकारी दुकानों की भी चेकिंग करें ताकि अवैध शराब की बिक्री रुक सके। उन्होने अवैध बूचड़खाने बन्द कराने, बिना टैक्सी स्टैण्ड के वाहन से वसूली पर रोक लगाने का निर्देश दिया।

 

उन्होनें सभी जिला मुख्यालयों पर एक सुन्दर पार्क हेतु कार्ययोजना बनाने हेतु जिलाधिकारियों को निर्देश दिया ताकि बच्चों के स्वस्थ मनोरंजन के साथ ही अन्य लोग भी उसमें मार्निंग वाक कर स्वास्थ्य लाभ ले सकें। उन्होंने जिलाधिकारी आज़मगढ़ को जनपद में विश्वविद्यालय स्थापना हेतु जल्द से जल्द भूमि चयन कर उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। उन्होने कहा कि किसान सम्मान निधि में किसी प्रकार की शिकायत नहीं मिलनी चाहिए। मुख्यमन्त्री ने निर्देश दिया कि लघु, सीमान्त आदि किसानों की कैटेगरीवाईज लिस्ट तैयार रखी जाये। उन्होंने पूर्वांचल एक्सप्रेस वे की धीमी प्रगति पर भी असन्तोष व्यक्त किया तथा सम्बन्धित जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि अधिग्रहण एवं पुनर्ग्रहण का कार्य तत्परता से पूरा किया जाये। उन्होने यह भी कहा कि यदि इसमें कोई शासकीय विभाग बाधक बनता है तो उसके विरुद्ध शासन को अवगत करायें तत्काल ऐक्शन लिया जायेगा। उन्होंने मण्डल में तीनों जनपदों में राजस्व वादों के कम निस्तारण पर भी असन्तोष व्यक्त किया तथा इसमें तेजी लाने हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिया। उन्होंने खाद्यान्न वितरण में सभी जिलाधिकारियों को ई-पाश मशीनों से हो रहे खाद्यान्नों के वितरण की समीक्षा करने का निर्देश दिया।

मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने आईजी जोन, मण्डलायुक्त, डीआईजी को निर्देश दिया कि जेलों का रैण्डम आधार पर दूसरे जनपद के जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से करायें ताकि जेलों से किसी समाज विरोधी, राष्ट्र विरोधी गतिविधियों का संचालन रोका जा सके तथा जेलों को अपराधियों की पनाहगाह बनने से बचाया जा सके।
मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ  द्वारा श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस के अवसर पर चित्र पर मार्ल्यापण किया गया।
इस अवसर पर मा0मन्त्री उपेन्द्र तिवारी, सांसद वीरेन्द्र सिंह, विधायक सुरेन्द्र सिंह व अरुण यादव, फागू चौहान, आईजी जोन श्री बृजभूषण मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी, डीआईजी मनोज तिवारी, जिलाधिकारी आज़मगढ़ नागेन्द्र प्रसाद सिंह, डीएम मऊ ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी, डीएम बलिया भवानी सिंह खंगारौत, एसी आज़मगढ़ त्रिवेणी सिंह, एसपी मऊ अनुराग आर्या, एसपी बलिया देवेन्द्र नाथ, अपर आयुक्त धर्मेन्द्र सिंह, संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा, आज़मगढ, मऊ बलिया के मुख्य विकास अधिकारी क्रमशः डीएस उपाध्याय, डा0 अंकुर लाठर व बद्रीनाथ सिंह सहित अन्य मण्डलीय एवं जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

0Shares
Total Page Visits: 2049 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *