एक दूसरे को गुलाल लगाती युवतियां व महिलाएं

फतेहपुर– होली के रंग मे जहां युवा एवं बुजुर्ग खुद को सराबोर होने से बचा नहीं पाये। वहीं पर्व को लेकर युवतियों एवं महिलाओं में भी काफी उत्साह देखा गया। युवतियां भी होली पर फिल्मी गीतों पर सखी सहेलियों के साथ अबीर व गुलाल उड़ाकर जमकर थिरकी और होली पर्व को उत्साह के साथ मनाते हुए यादगार बनाया। वहीं युवतियों ने अपने से बड़ों का आशीर्वाद भी लिया। होली पर्व को लेकर पहले दिन तो महिलाओं एवं युवतियों मे कम उत्साह देखने को मिला लेकिन दूसरे दिन होली का आनंद घर की महिलायें एवं युवतियों ने जमकर उठाया। अबीर व गुलाल उड़ाकर फिल्मों गीतों पर जमकर ठुमके लगाये।
जमाखोरों की रही चांदी
फतेहपुर। एक ओर जहां होली की खुशियां मनाने में लोग पूरी तरह से मस्त रहे। रंग-बिरंगे रंगों में सराबोर अपने यार-दोस्तों के स्वागत में विभिन्न व्यंजन परोसे गये। वहीं मेहमानों की विदाई के समय पान और मसाले का रिवाज निभाने के लिए लोगों ने होली के दिन उस मंहगाई का सामना किया। शायद इससे पहले उन्हे इस तरह से पान-मसाले के दामों में मंहगाई न देखी होगी। होली के दो दिनों में पान-मसाला जमाखोरों ने एक मसाले की पाउच चार रूपये तक की बेंची है। इन मसालों में राजश्री, वाह, कमला पसंद, केसर जैसे आदि जर्दा मसाले शामिल रहे। वहीं प्रशासन के द्वारा होली पर्व में अंग्रेजी, देशी शराब की दुकानों को बंद रखने का निर्देश रहा। लाख निर्देशन के बावजूद भी कुछ शराब माफिया अपने कर्मचारियों के माध्यम से चोरी-छिपे निर्धारित दामों से दुगने दाम पर शराब बेंचने का काम चलता रहा। शराब माफियाओं के एजेंट शराब शौकीनों तक शराब पहुंचाने का काम किया है। दूध की भी किल्लत काफी हद तक नजर आयी। पचीस से लेकर अट्ठाइस रूपये लीटर के बीच बिकने वाला दूध इन दो दिनों में चालिस से पचास रूपये के बीच में बेंचा गया। पेट्रोल और डीजल की भी किल्लत बनी रही। बीते कल तो शहर के सभी पेट्रोलपम्पों पर वाहन चालकां को पेट्रोल और डीजल नहीं उपलब्ध कराया गया। लेकिन वहीं डीजल और पेट्रोल कुछ गिने-चुने लोगों के माध्यम से बेंचा गया।
बिजली की जमकर हुयी आंख मिचौली
फतेहपुर। होली पर्व को लेकर जिला प्रशासन द्वारा हुयी पीस कमेटी की बैठकों में जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ समाजसेवियों द्वारा बिजली, पानी की समस्याएं उठायी गयी थी। जिसमें अधिकारियों द्वारा होली पर्व पर बिजली व पानी की समुचित व्यवस्था किये जाने का आश्वासन दिया गया था। इसके बावजूद पर्व के दोनों दिन बिजली की जमकर आंख मिचौली हुयी। जिसके कारण पानी की भी किल्लत देखने को मिली। लोगों का कहना रहा कि जिला प्रशासन द्वारा पर्व पर व्यवस्थाएं दुरूस्त नहीं की गयी। लोगों को बिजली के अभाव में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

0Shares
Total Page Visits: 363 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *