उमस ने जनजीवन को झकझोरा, स्कूली बच्चे सर्वाधिक प्रभावित

उमस के बीच बोतल से पानी पीते स्कूली बच्चे
फतेहपुर। कुंवार माह में भी मई-जून से कहीं अधिक पड़ रही गर्मी व उमस ने आम जनमानस को झकझोर कर रख दिया है। बड़ों के साथ इस गर्मी व उमस से सर्वाधिक स्कूल जाने वाले बच्चे प्रभावित हो रहे हैं। दोपहर में स्कूल से वापस आते समय गर्मी व उमस से राहत पाने के लिए बच्चे पानी का अधिक सेवन करते दिख रहे हैं। उधर कई उम्रदराज लोगों का कहना है कि कुंवार के महीने में पड़ रही गर्मी व उमस ने कई दशकों का रिकार्ड तोड़ दिया है। उमस भरी गर्मी के बीच अघोषित बिजली कटौती कोढ़ में खाज का काम कर रही है। बिजली कटौती से लोगों में आक्रोश भी देखने को मिल रहा है।
मालूम रहे कि वर्तमान में सितम्बर माह का पहला हफ्ता लगभग समाप्त होने पर है। सितम्बर माह में लोगों को गर्मी व उमस से हर दम राहत मिलती थी। लेकिन तेजी से बिगड़ रहे पर्यावरण के चलते इस महीने में भी भीषण गर्मी व उमस से लोग बेचैन हैं। सितम्बर माह में भी लोग पसीने से तर-बतर देखे जा रहे हैं। जबकि सितम्बर माह में लोगों को गर्मी से राहत मिल जाती है। घरों में काम करने वाली महिलाएं खाना बनाते या अन्य काम के वक्त पसीने में डूबी दिखती है। स्कूल जाने वाले बच्चों के सामने उमस भरी गर्मी बवाले जान बनी हुयी है। तेज धूप के बीच दोपहर में स्कूलों से छुट्टी होने पर झुण्ड में बच्चे घर से लाने वाली बोतल का पानी इस्तेमाल कर प्यास बुझाने के साथ ही गर्मी से कुछ राहत महसूस कर रहे हैं। जिले सहित मुख्यालय के अधिकांश स्कूलों का समय प्रातः आठ बजे से लागू है और इनकी छुट्टी एक और दो बजे के बीच हो रही है। ऐसे में धूप से भरी दोपहर में घर वापस जाते समय खासकर छोटे बच्चों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। भीषण गर्मी व उमस के बीच रात और दिन की बिजली कटौती ने भी लोगों का सुख-चैन छीन लिया है। शहर के कई ऐसे इलाके हैं जहां आये दिन फाल्ट होने की वजह से बिजली बाधित रहती है। इतना ही नहीं अचानक ट्रान्सफार्मर फुंक जाने पर तत्काल बदलने की सरकार की व्यवस्था भी फेल दिख रही है। अभी पिछले दिनों एक दिवसीय भ्रमण पर आये प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने ऐलान किया था कि फुंके हुए ट्रान्सफार्मर 48 या 24 घण्टे में नहीं बल्कि तत्काल बदल दिये जायेंगे। उनकी इस घोषणा का फिलहाल जिले में अनुपालन नहीं दिख रहा है।

0Shares
Total Page Visits: - Today Page Visits:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *