ई-व्यापार के चलते देश की छोटी-छोटी दुकानें हो रही बंद-अमित

राष्ट्रव्यापी व्यापार बचाओ रथ यात्रा का स्वागत
 गोष्ठी को सम्बोधित करते संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित गुप्ता।
फतेहपुर। ई-व्यापार के विरोध में राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन द्वारा निकाले जा रहे राष्ट्रव्यापी व्यापार बचाओ रथ यात्रा शहर में पहुंचने पर नऊवाबाग बाईपास पर स्वागत किया गया। तत्पश्चात जीटी रोड स्थित एक पैलेस में आयोजित गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए रथ यात्रा की अगुवई कर रहे राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित गुप्ता ने कहा कि ई-व्यापार ने रिटेल मार्केट को अपने कब्जे में ले लिया है। जिसके चलते देश की छोटी-छोटी दुकानें बंद हो रही हैं। यह आन्दोलन तब तक चलेगा जब तक आनलाइन ट्रेडिंग बैन नही हो जाती।
पन्द्रह दिसम्बर को कानपुर के फूलबाग मैदान से निकाली गयी राष्ट्रव्यापी व्यापार बचाओ रथ यात्रा शहर पहुंचने पर स्थानीय व्यापारियों ने मिलकर नऊवाबाग तिराहे पर स्वागत किया। तत्पश्चात ई-व्यापार विरोधी नारेबाजी करते हुए रथ यात्रा शहर के जीटी रोड स्थित एक पैलेस पहुंची। जहां रथ यात्रा गोष्ठी में सम्बोधित हो गयी। उपस्थित व्यापारियों को सम्बोधित करते हुए संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित गुप्ता ने कहा कि भारत में लगभग सात करोड़ व्यापारी हैं। लगभग 28 करोड़ लोगों को देने का काम कर रहे हैं। देश के राजस्व में 35 प्रतिशत योगदान देश के खुदरा व्यापारियों का है। लेकिन आज देश के व्यापारियों की दिक्कतें बढ़ती जा रही हैं। जिसकी वजह ई-व्यापार है। ई-व्यापार ने वर्तमान समय में 3.5 लाख करोड़ से अधिक रिटेल मार्केअ को अपने कब्जे में ले लिया है। जिससे देश की छोटी-छोटी दुकानें बंद होती चली जा रही हैं। कहा कि यह आन्दोलन तब तक चलेगा जब तक आनलाइन ट्रेडिंग बैन नहीं हो जाती। इसके लिए खुदा व्यापारियों को सड़क से संसद तक लड़ाई लड़नी है। गोष्ठी के माध्यम से मांग की गयी कि देश के खुदरा व्यापारियों को बचाने के लिए चार प्रतिशत की दर से बैंकों से ऋण उपलब्ध कराया जाये। जो व्यापारी कर्ज नहीं भर पा रहे हैं। उनके कर्जे माफ किये जायें। प्रदेश में बढ़ायी गयी विद्युत दरों को तत्काल वापस लिया जाये। व्यापारियों को तत्काल अभी से पेंशन की व्यवस्था की जाये। जीएसटी रिटर्न लेट भरने पर पेनाल्टी प्राविधान हटाया जाये। वन नेशन वन टैक्स की बात कही जा रही है। प्रदेश से मण्डी टैक्स हटाकर जीएसटी में सम्मिलित किया जाये। पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के अन्तर्गत शामिल किया जाये, इसके अलावा अन्य मांगे भी शामिल हैं। रथ यात्रा का स्वागत करने वाले स्थानीय व्यापारियों में मनोज घायल, अमित शिवहरे, रवि प्रकाश दुबे, प्रदीप गर्ग, नरिन्दर सिंह रिक्की, राजेश गांधी, रितेश शोल्डी, सर्वेश अग्रहरि, सत्येन्द्र गुप्ता, अमित शरन, संजय मोदनवाल, आशुतोष रस्तोगी, साजन गुप्ता, अरूण जायसवाल, प्रेमचन्द्र शिवहरे, राधेश्याम हयारण, बद्री विशाल सहित तमाम व्यापारी शामिल रहे।

0Shares
Total Page Visits: 388 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *