आज़मगढ़ में बारिश से किसानो के चेहरों पर लौटी मुस्कान

अर्पित मिश्र
आज़मगढ़ : बिलरियागंज – सूखे की मार झेल रहे क्षेत्र के किसानों के चेहरे दो दिन से हो रही बारिश से खिल उठे। यह बारिश किसानों की फसल के लिए वरदान साबित हुई है। वहीं बारिश से लोगों को गर्मी व उमस से भी निजात मिली है।
आषाढ़ माह में अब तक बारिश न होने से किसानों ने खरीफ की कोई फसल नहीं हो पायी थी।शुरूआती माह में हल्की फुल्की बारिश के साथ किसानों ने ज्वार, बाजरा, तिली, उरद, मूंग, सोयाबीन, कुम्हेड़ा आदि फसलों को बोया था। बुआई के बारह दिन बीत जाने के बाद बारिश न होने से फसल सूखने लगी थी और किसान सूखा को लेकर मायूस नजर आने लगे थे। उन्हें दूर- दूर तक बारिश के आसार नहीं दिखाई दे रहे थे। उमस व गर्मी के चलते फसलों पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा था। शुक्रवार की शाम और शनिवार की दोपहर को तेज हवा के साथ हुई बारिश से किसान की फसलों को जहां अमृत रूपी पानी मिला वहीं लोगों को गर्मी व उमस से भी निजात मिली। बारिश को लेकर क्षेत्र के भैसहाॅ निवासी किसान रणधीर मिश्र ने बताया कि आषाढ़ माह के अंतिम दिनों में हुई यह वर्षा किसानों की फसल के लिए जीवन दायिनी साबित हुई है। इस वर्षा से किसानों की सभी फसलों को लाभ मिला है। वहीं नगवा के किसान नमित और पंकज दुबे ने बताया कि देर से बारिश न होने से किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ा है। देर से बरसात होने के कारण कई किसानों ने अभी तक काफी कम मात्रा में फसल की बुआई की है। भगतपुर के ही अजय ने बताया कि यदि इसी तरह से बारिश होती रही तो खरीफ की फसल का नुकसान रबी की फसल में पूरा हो जायेगा। बिलरियागंज के निवासी अरविंद गुप्ता ने बताया कि बारिश से गर्मी व उमस से ग्रामीणों को राहत मिली है और छोटे किसानों जो फसल पर टकटकी लगाये थे उन्हें भी राहत महसूस हुई है।

0Shares
Total Page Visits: 1414 - Today Page Visits: 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *