आनलाईन फ्राड करके साईबर अपराधी ने उड़ाये खाते से पैसे साईबर सेल कुशीनगर द्वारा कराया गया वापस

आपको बतातें चलें की पुलिस अधीक्षक कुशीनगर श्री विनोद कुमार मिश्र को फरियादी राजन कुमार राय पुत्र स्व0 योगेन्द्र राय सा0 तरया सुजान जनपद कुशीनगर ने प्रार्थना पत्र देकर अवगत कराया कि प्रार्थी के HDFC बैंक के खाते से किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा आनलाईन धोखाधडी करके खाते से रुपया 74100.00 (रुपया चौहत्तर हजार एक सौ मात्र) निका* ल लिया। श्रीमानं पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा उक्त घटना पर तत्काल कार्यवाही करते हुए जाँच हेतु साइबर सेल को आदेशित किया गया। इसी क्रम में साइबर सेल ने त्वरित कार्यवाही करते हुए जाँच में पाया गया कि फरियादी राजन कुमार राय के HDFC बैंक मे खोले गये बचत खाते से आनलाईन धोखाधड़ी करके Make My Trip  नामक कैश वैलेट के माध्यम से रुपया 50000.00 व रुपया 24100.00 मूल्य के दो E-Card  की आनलाईन खरीदारी करते हुए रुपया 74100.00 की निकासी की गयी। *साइबर सेल द्वारा उक्त दोनो E-Card  व Make My Trip कैश वैलेट को फ्रीज कराते हुए धोखाधडी करके निकाली गयी धनराशि रुपया 74100.00(रुपया चौहत्तर हजार एक सौ मात्र) को फरियादी के बचत बैंक खाते में वापस करा दिया गया।* उक्त कार्य को साईबर सेल में नियुक्त आरक्षी अनिल कुमार यादव द्वारा सम्पादित किया गया।
श्रीमान् पुलिस अधीक्षक महोदय के निर्देशन में कार्य कर रही पुलिस टीम ने बताया कि साइबर फ्राड होने की दशा में यदि फरियादी द्वारा साइबर ठगी होने के 24 घण्टे के अन्दर बैंक डिटेल सहित साइबर सेल को सूचना देता है तो फ्राड किये गये पैसो की वापसी की सम्भावना अधिक रहती है।
 *साइबर फ्राड से बचाव का तरीका-*
       पुलिस अधीक्षक कुशीनगर श्री विनोद कुमार मिश्र द्वारा बताया गया कि आज के आधुनिक परिवेश में सबसे अधिक साइबर फ्राड फोन करके ओ0टी0पी0 पूछकर पैसे निकालते  समय ए0टी0एम0 कार्ड का नं0 व पासवर्ड चोरी करके ऑनलाइन वैलेट के माध्यम से किया जा रहा जिससे बचने का सबसे अच्छा उपाय है कि फोन पर किसी भी व्यक्ति को अपने खाते से सम्बन्धित जानकारी  साझा न करें और एटीएम  बूथ से पैसे निकालते समय बूथ में अकेले ही प्रवेंश करे व अपना पासवर्ड छुपा कर दर्ज करें। अधिकतर साइबर अपराधी एटीएम बूथ में भीड़ का फायदा उठाकर साथ ही एटीएम बूथ के अन्दर प्रवेश कर जाते है। एवं सामने वाले व्यक्ति के पैसा निकालते समय ही उसका एटीएम कार्ड नं0 व पासवर्ड याद कर लेते है। जिसका भनक तक सामने वाले व्यक्ति को नही लगती है कि उसका एटीएम कार्ड नं0 व पासवर्ड चोरी हो गया है। यदि इस तरह का किसी भी प्रकार का शक हो तो तत्काल स्थानीय पुलिस को इसकी सूचना दें।
0Shares
Total Page Visits: 781 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *