आतंकवाद के खिलाफ कई बड़े देश हमारे साथः रवीश कुमार

वैश्विक मंच पर भारत के आतंकवाद विरोधी अभियान को बड़ी सफलता मिली है। शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन के घोषणा पत्र में आतंकवाद के सभी रूपों की एक सुर में निंदा की गई है। 

एससीओ की राष्ट्राध्यक्ष परिषद के बिश्केक घोषणा-पत्र के मुताबिक, सदस्य देशों ने इस बात पर जोर दिया कि आतंकवादी कृत्यों को सही नहीं ठहराया जा सकता। इसके साथ ही भारत की तरफ से बार-बार उठाए जाने वाले सीमा पार आतंकवाद को भी इस घोषणा पत्र में जगह दी गई है। जोकि पाकिस्तान के लिए एक संदेश माना जा रहा है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि सभी सदस्य देशों ने आम सहमति से आतंक के खिलाफ बयान दिया है। यह सभी सदस्य देशों की तरफ से जारी घोषणापत्र में शामिल है। यह सभी देशों की तरफ से आतंकवाद के खिलाफ कड़ा संकेत है।

श्रीलंका के चर्च में आतंक का घिनौना चेहरा देखा

प्रधानमंत्री मोदी एससीओ सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मैं पिछले रविवार को श्रीलंका की अपनी यात्रा के दौरान सेंट ऐंथनी गिरजाघर गया जहां मैंने आतंकवाद का घिनौना चेहरा देखा। इस आतंकवाद ने हर जगह निर्दोष लोगों की जान ली है। यह आतंकवाद कहीं भी कभी भी प्रकट होकर रोज मासूमों की जान लेता है। प्रधानमंत्री ने एससीओ के सदस्य देशों से अपील की कि वे एससीओ क्षेत्रीय आतंकवाद रोधी संरचना के तहत सहयोग करें। उन्होंने एससीओ नेताओं से आतंकवाद पर एक वैश्विक सम्मेलन आयोजित करने की भी अपील की।

हेल्थ शब्द को विस्तार से बताया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद से मुकाबले, अर्थव्यवस्था, वैकल्पिक ऊर्जा और स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ावा देने में एससीओ देशों के बीच व्यापक सहयोग का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि एससीओ को 2019-2021 के लिए हेल्थकेयर कार्य योजना पर हमें जोर देना चाहिए। मोदी ने हेल्थ शब्द को विस्तार से बताया।

0Shares
Total Page Visits: 3262 - Today Page Visits: 7

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *