आजमगढ़: पुलिस आए दिन कर रही पत्रकारों का उत्पीड़न

मोहम्मदपुर,आजमगढ। निजामाबाद थाना क्षेत्र के अंतर्गत फरिहा चौकी इंचार्ज अनिरुद्ध कुमार सिंह के मनमानी से पत्रकार सहित जनता भी परेशान है।
जानकारी के अनुसार फरिहा चौकी इंचार्ज अनिरुद्ध कुमार सिंह के तांडव से पूरे क्षेत्र के लोग दहशत मे रह रहे है। कोरोना वायरस के चलते हर जगह लाॅक डाउन की स्थिती बनी हुई है। लाक डाउन को देखते हुए दुकानो के खुलने की समय सीमा तय किया गया है। इस समय सीमा के अन्दर जनता जरूरी समानो की खरीदारी करने के लिए बाजार मे आती है। बाजार मे आने पर चौकी इंचार्ज द्वारा उनके गाड़ियो की बिना बताये चालान कर दिया जाता है। वाहन स्वामी को पता भी नही होता कि हमारी गाड़ी की चालान आखिर क्यो की गयी चौकी प्रभारी के शेज पर 24 घन्टे सिपाही पुलिस बूथ पर बैठकर सिर्फ आने जाने वालो के गाड़ियो का नम्बर कापी पर नोट करता रहता है ,चाहे वह व्यक्ति काम से बाजार आया हो या फिर दवा के लिए आया हो यहा तक देखने को मिला कि मरीज दवा और पर्ची भी दिखाया और गिड़गिड़ा रहा था कि साहब दवा लेकर आ रहे है काफी करीब हैं लेकिन ये देश के जांबाज फरिहा पुलिस के लोगो ने उस मरीज के गाड़ी का नम्बर नोट कर लिये ।जब जी चाहे जनता के गाड़ियो का नम्बर नोट करवा करके चौकी इंचार्ज द्वारा गाड़ियो की चालान कर दिया जाता है उनके इस रवैये से ऐसा लगता है कि हमेशा शराब की नशा मे मस्त है ।जिसका उदाहरण फरिहा के तीन पत्रकारो के गाड़ियो की चालान की गयी जिसमे पंकज पांडे की चालान 8/4/2020/ 1500 रूपये दूसरा पत्रकार आमिर खान की गाड़ी की चालान 1500, 2000 रूपये दो बार की गयी तीसरा पत्रकार शिवलाल कुमार की गाड़ी की चलान 1500 31/3/2020 को रूपये की गयी इनके पास गाड़ी चलाने का पास भी बना हुआ था और पास को गाड़ी के आगे चिपकाये हुए थे फिर भी गाड़ी की चालान की गयी। सभी पत्रकारो को चौकी इंचार्ज सहित पूरा स्टाप भलीभांति परिचित है और सब गाड़ियो पर प्रेस लिखा हुआ है फिर भी अनिरूध्द सिंह अनजान बनकर पत्रकारो के गाड़ियो का चालान किये ।
चौथी घटना फरिहा के कोटेदार सब्बू खान के साथ घटित होती उनसे सबसे पहले 2 कुंतल गेंहू चौकी पर भेजने के लिए चौकी इंचार्ज द्वारा कहा जाता है कोटेदार सब्बू गेंहू फरिहा चौकी पर भेज देते लेकिन जब रूपये मांगने चौकी पर जाते है तो इनके सुपर स्प्लेंडर का नम्बर नोट करके 2000 की चालान काट दी जाती फिर इनको गेंहू का रूपया भी नही मिलता ऊपर से 2000 की चालान हो जाती है बस इनका कसूर इतना था कि गेंहू का पैसा चौकी इंचार्ज से मांग किये सब्बू को यह पता नही था कि यह गेंहू तो रिश्वत के रूप मे लिया गया है सब्बू तो पूलिस से सिर्फ 4000 रूपये मांगे थे लेकिन सब्बू को 6000 रूपया देना पड़ा सब्बू डर कर फिर रूपया मागने गया ही नही ।ये तो पत्रकारो का मामला था कि पता चल गया पता नही क्षेत्र मे कितने लोगो की चलान हुई होगी उनका कोई आंकड़ा ही नही वे इस महामारी मे एक एक रोटी को तरस रहे है फिर ये चालान का पैसा कहा से भरा जायेगा । इतना ही नही ये तो जनता के ऊपर सकती दिखाई जाती है लेकिन रात के समय अगल बगल गांवो से मांस लदे वाहनो से वसूली करके एक गांव से दूसरे गांवो तक मांस भेजा जाता है उनकी चालान नही की जाती है क्योंकि उनसे अच्छी खासी रकम मिल जाती है चौकी इंचार्ज अनिरुद्ध कुमार सिंह लोगो से यह कहते फिरते है कि हमारी पहुंच तो बड़े अधिकारियो तक है हमारा कोई क्या बिगाड़ लेगा इसी धौस के आगे ट्रान्सफर हुए करीब 2 महीने हो गये अभी तक फरिहा चौकी पर चौकी इंचार्ज तांडव मचा रहे है यहा से इनको अब तक नही हटाया गया ।

0Shares
Total Page Visits: 1075 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *