अलम के मिलाप पर अकीदतमंदों की उमड़ी भीड़

 मोहर्रम की पांचवी पर अलम जुलूस का नजारा
फतेहपुर। मोहर्रम की चौथी को अलग-अलग स्थानों से उठे पांच ताजियों का मिलाप मोहर्रम की पांचवी को जहां सुबह हुआ। वहीं शाम को जीटी रोड पर अलम का मिलाप हुआ। दोनो ही पहर अकीदतमन्दों की भारी भीड़ रही। पर्व पर लगे मेले का बच्चों ने भरपूर लुत्फ उठाया। मिलाप के पश्चात सभी अलम अपने अपने अखाड़े जाकर रख गये।
बताते चलें कि जिले की ताजियादारी बेहद मशहूर है। मोहर्रम की पांच तारीख से ताजियादारी अपने पूरे शबाब पर पहुंच जाती है। गुरूवार को बाद नमाज जोहर शहर के अलग-अलग स्थानों से अलम जुलूस निकाला गया। जिसमें अस्ती, अन्दौली, आबूनगर, मसवानी, ज्वालागंज, सैय्यदवाड़ा आदि इलाकों के अखाड़ों से ढोल तासों के साथ अलम उठाये गये। अलम अपने निर्धारित मार्गों पर भ्रमण करते रहे और शाम लगभग छह बजे जीटी रोड पहुंच गये। जहां अलमदारों ने अपने-अपने अलम को फूलों से सजाया। उधर बनेठी के लोग भी अपने-अपने करतब दिखाते रहे। धीरे-धीरे अलम जुलूस आगे बढ़ा और लक्ष्मी टाकीज के निकट देर शाम सभी अलम का मिलाप हुआ। मिलाप देखने के लिए बड़ी संख्या में अकीदतमंद एकत्र हुए। इसके अलावा जीटी रोड पर दोनों ओर खाद्य पदार्थों की दुकानें भी सजी रहीं। जिसमें महिलाओं एवं बच्चों ने जमकर लुत्फ उठाया। सुरक्षा व्यवस्था के दृष्टिकोण से पुलिस प्रशासन बेहद सतर्क रहा। चप्पे-चप्पे पर पुलिस के जवान तैनात रहे। कुल मिलाकर पांचवी मोहर्रम का जुलूस शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो गया।
नोट- ऊपर वाली खबर का बाक्स
नोट- आवश्यक
कर्बला के शहीदो को किया याद
फतेहपुर। मोहर्रम माह में कर्बला में शहीद हुए हजरत इमाम हुसैन अलै. की याद में मसवानी मोहल्ला में जिक्रे शहादतेंन का आयोजन किया गया जिसमे कानपुर देहात के काजी-ए-शहर हजरत मौलाना हाफिज अब्दुल सत्तार व मौलाना कारी मुहम्मद इमरान ने शिरकत करते हुए कर्बला में शहीद हुए हजरते इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम व उनके साथियो की शहादत की दास्तान सुनाई। शहीदों की शहादत का जिक्र सुनकर जिक्रे शहादतैंन में आये हुए लोगो की आँखे नम हो गयी। कार्यक्रम में खिताब करते हुए कारी मुहम्मद इमरान ने कहा कि समाज में फैले अन्याय को रोकने अमन व भाईचारा कायम करने व इस्लाम मजहब को मजबूत करने के लिए अल्लाह के नबी हजरत मोहम्मद (सल्ल) के नवासे ने कर्बला में शहीद होना गंवारा किया लेकिन जालिमो के हाथों में शासन नही सौंपा। उन्होंने देशवासियों को अमन का पैगाम देते हुए आपसी भाईचारे को मजबूत करने के साथ ही हजरत मोहम्मद व इमाम हुसैन की शिक्षाओं पर चलने का आह्वान किया।

0Shares
Total Page Visits: 1729 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *